You are here

CM शिवराज की विधानसभा में आदिवासी किसान का हाल, बैलों की जगह बेटियां जोत रही हैं खेत

नई दिल्ली/भोपाल। नेशनल जनमत ब्यूरो 

मध्य प्रदेश में किसानों की बदहाली पर आलोचना झेल रही बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए बुरी खबर है। शिवराज के राज में किसानों की बदहाली का आलम  देखिए उनकी अपनी विधानसभा में एक आदिवासी किसान को बैल ना होने के कारण अपनी बेटियों से ही खेत जुतवाना पड़ रहा है।

पढ़ें-योगीराज में सरकारी वकीलों की नियुक्ति में ठोक के जातिवाद, 311 वकीलों में 216 ब्राह्मण-ठाकुर, ओबीसी-एससी गायब

सीहोर जिले की बुधनी विधानसभा का मामला- 

मध्यप्रदेश में किसानों की हालत बद से बदतर होती जा रही है। किसान खुदकुशी के लिए मजबूर हो रहे हैं, इसी बीच एक भावुक करने वाला मामला सामने आया है। मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में शिवराज सिंह चौहान की विधानसभा बुधनी में एक आदिवासी किसान के पास हल जोतने के लिए बैल न होने के कारण वो अपनी दो बेटियों को बैलों की जगह पर इस्तेमाल कर रहा है।

नसरुल्लागंज जनपद पंचायत के गांव बसंतपुर पांगरि में आदिवासी सरदार बारेला नाम के गरीब किसान के पास अपना खेत जोतने के लिये कोई साधन नहीं है। बारिश के इस मौसम में यदि खेत न जोते गई तो परिवार का पेट कैसे पलेगा। ऐसे में सरदार को अपनी दो बेटियों राधा और कुंती को बैलों की जगह इस्तेमाल करना पड़ा।

इसे भी पढ़ें- सादगी पसंद सीएम के लिए शहीद के घर पर हुआ शाही इंतजाम, देशहित में कूलर, कार्पेट, भगवा सोफा मंगाया गया

डीपीआरओ का वही घिसा-पिटा जवाब- 

किसान का कहना है कि सरकार उनकी कोई मदद करती नहीं ऐसे में उनके पास अपना पेट पालने के लिये कोई और चारा नहीं है। डीपीआरओ आशीष शर्मा ने बताया कि किसान को बच्चों से ऐसा काम नहीं करवाने के लिए कहा गया है।उन्हें हरसंभव सरकारी मदद मुहैया कराई जाएगी। प्रशासन इस मामले पर विचार कर रहा है।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के मंदसौर में किसानों ने पिछले दिनों सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला था। किसान अपनी मांगो को लेकर सड़कों पर उतर गए थे। जिसमें पुलिस के लाठीचार्ज के समय 5 किसानों की मौत हो गई थी। जिसके बाद मंदसौर में हालात और ज्यादा बिगड़ गए थे।

Related posts

Share
Share