You are here

सीएम योगी के फरमान के बाद अब यूपी रोडवेज की बसों का भी होगा भगवाकरण

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

उत्तर प्रदेश सहित देश के सभी बीजेपी शासित राज्यों में भगवा गमछा डाले भाजपा समर्थक रौब गालिब करते आसानी से मिल जाएंगे, लेकिन आपने शायद ही कभी किसी बीजेपी शासित राज्य में भगवा रंग की बसें देखी हों।

धार्मिक सीएम आदित्यनाथ के राज में उत्तर प्रदेश का ही भगवाकरण हो रहा है तो यूपी रोडवेज की बसें इससे क्यों अछूती रहती ? मीडिया खबरों के अनुसार, उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने यूपी रोडवेज की बसों को भगवा रंग में रंगने का निर्देश दिया है। आदेश के बाद यह काम आनन-फानन शुरू कर दिया गया है।

इससे पहले भी हुआ है परिवर्तन- 

वहीं परिवहन निगम अधिकारियों का कहना है, जब भी कोई पार्टी सत्ता में आती है तो बसों का भी रंग बदल दिया जाता है। आपको बता दें कि यूपी में यह पहली बार नहीं है जब रोडवेज बसें किसी राजनीति पार्टी के प्रेरित रंग से रंगी गई हों।

इससे पहले जब उत्तर प्रदेश में मायावती की सरकार थी तब उन्होंने बसों का रंग नीला करवा दिया था वहीं समाजवादी पार्टी की सरकार ने अपने कार्यकाल में इन बसों को हरे और लाल रंग में बदल दिया था। अब बीजेपी ने रोडवेज बसों को भगवा रंग में रंगने का निर्देश दिया है।

रोडवेज कार्यशाला के इंचार्ज पीएन वर्मा ने कि अंत्योदय बस सेवा में शामिल सभी बसें भगवा और सफेद रंग में रंगी होंगी। बसों का डिजाइन और कलर लगभग फाइनल हो चुका है। उन्होंने बताया कि यह यूरो फोर बसे है यह बसे बहुत ही आराम दायक है यह फर्राटा भरेगी तो काफी अच्छी दिखेगी।

कानपुर कार्यशाला में हो रहा निर्माण- 

बसों का निर्माण परिवहन निगम की कानपुर की कार्यशाला में हो रहा है। बस का पहला मॉडल बनकर तैयार होने वाला है। सभी बसें रोजाना कार्यशाला में तैयार की जाएंगी। समय रहते 50 बसों का निर्माण पूरा होने पर 25 सितंबर को पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी पर बस को हरी झंडी दिखाने की तैयारी है।

पूर्व की सपा सरकार ने गरीबों के लिए लोहिया ग्रामीण बसों की शुरुआत की थी। इन बसों का किराया अन्य बसों की तुलना में 25 % कम रखा गया था। इसी तर्ज पर भाजपा ने भी गरीबों की सुविधा के लिए अंत्योदय बस सेवा चलाए जाने की तैयारी कर ली है। इसका किराया भी सामान्य बसों की तुलना में खासा कम होगा।

Related posts

Share
Share