You are here

6 साल की मासूम के लिए मंच के सामने ही न्याय मांगती रही मां, मुंह फेरकर चल दिए धार्मिक CM

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

वाराणसी में रविवार को अपना दल एस की रैली में पहुंचे  सीएम योगी की जनसभा के दौरान एक महिला चीख-चीखकर कहती रही कि ”मेरी 6 साल की बच्ची के साथ रेप हुआ है, मुझे न्याय चाहिए।’ लेकिन अपने धार्मिक सीएम का दिल  नहीं पसीचा। बार-बार उस हंगामे की तरफ देखते रहे लेकिन किसी से ये पूछना तक गवारा नहीं समझा कि आखिर ये महिला हंगामा क्यों कर रही है।

पु‍ल‍िसवालों ने महिला और उसके परिवार को घेर ल‍िया। इसके बावजूद महिला वहां से पीछे हटने को तैयार नहीं थी। हंगामे के दौरान सीएम योगी ने कई बार महिला की आवाज सुनी और देखा भी, लेकिन वह मंच से उतरकर बिना म‍िले ही चले गए।

पीड़ि‍त मह‍िला ने बताया कि 10 मई की रात को पड़ोस के रहने वाले 5 लोग संजय राठौर, हुसैनी, जब्बर, मुख्तार और व‍िनोद मेरे बेटी को सोते से उठाकर ले गए। यहां संजय ने बेटी के हाथ-पैर बांधकर रेप क‍िया और घर से 500 मीटर की दूरी पर उसे मरा समझ फेंककर चले गए।
मामले में पुलिस ने 11 मई की रात को ही एक शादी समारोह से आरोपी संजय को अरेस्ट कर लिया। संजय के पैंट पर खून के निशान थे, जिसको देखकर लोगों ने पुलिस को उसकी सूचना दी थी। पुलिस ने आरोपी संजय के खि‍लाफ पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया है।

महिला ने बताया, ”इस घटना में पुलिस ने सिर्फ संजय को पकड़कर केस बंद कर दिया, जबकि विवाद हुसैनी, जब्बर, मुख्तार और विनोद को हाथ तक नहीं लगाया है। वो सभी आजाद घूम रहे हैं।  बच्ची के पिता ने बताया, ”मैं परिवार के साथ दिल्ली रहता हूं। बेटी को 4 महीने से उसकी नानी के घर छोड़ा था। 10 मई को घर में पूजा थी, इसलिए पत्नी के साथ मैं भी ससुराल आया था।”

”दोपहर में ससुर फूलचन्द से पांचों लोगों ने प्रापर्टी को लेकर झगड़ा क‍िया और धमकी दी क‍ि मुंह दिखाने लायक नहीं रहोगे। इसके बाद रात में घर के बाहर से सोते समय बच्ची को उठाकर ले गए।

”इंसाफ के लिए 14 जून को लखनऊ भी सीएम की रैली में भी गया था, लेकिन वहां भी किसी ने नहीं सुनी। आरोपी मुझे और पर‍िवार को कई बार अंजाम भुगतने की धमकी दे चुके हैं। पुलिस का कहना है कि जांच में एक ही आरोपी पाया गया था, जिसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। बाकी किसी का नाम नहीं आया है, परिजन गलत आरोप लगा रहे हैं।

Related posts

Share
Share