You are here

ये बदले की कार्रवाई है या वजह कुछ और, अखिलेश के साइकिल ट्रैक पर चलेगा योगी का हथौड़ा

बरेली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

यूपी में योगी सरकार ने अखिलेश सरकार की योजनाओं के नाम बदलने के बाद अब अखिलेश सरकार की महत्वपूर्ण योजना साइकिल ट्रैक को तुड़वाने का फैसला किया है। आपको बता दें कि अखिलेश यादव की समाजवादी एम्बुलेंस योजना का नाम बदलकर मुख्यमंत्री एम्बुलेस योजना रख दिया । इसी तरह लोहिया अवास योजना का नाम बदलकर दीन दयाल योजना रख दिया। लेकिन अब योगी सरकार ने अखिलेश के दिल के सबसे करीब मानी जाने वाली समाजवादी साइकिल ट्रैक योजना को बरेली जिले में तुड़वाने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें…योगीजी के मन का मैल साफ करने के लिए गुजरात के दलितों ने भेजा 125 किलों की साबुन

खबरों के मुताबिक अखिलेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट साइकिल ट्रैक पर योगी सरकार हथौड़ा चलाने जा रही है। नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने साइकिल ट्रैक तोड़ने के संकेत दे दिए हैं। उन्होंने कहा है कि जहां पर सड़क की चौड़ाई कम है, उन जगहों पर साइकिल ट्रैक को तोड़ा जाएगा और इसकी शुरुआत बरेली की जाएगी। बरेली में शहामतगंज से सेटेलाइट तक साइकिल ट्रैक का निर्माण किया गया था।

अतिक्रमण से परेशानी- 

बरेली प्रशासन का दावा है कि इस ट्रैक का निर्माण तो साइकिल चलाने वालों के लिए किया गया था लेकिन इसे बनाने के बाद पर ध्यान ही नहीं दिया जिससे इस पर अतिक्रमण शुरू हो गया और लोगों ने वाहन खड़े करना शुरू कर दिया। इससे जहां जाम की समस्या बढ़ने लगी वहीं, ये ट्रैक जगह जगह पर क्षतिग्रस्त हो गया है।

इसे भी पढ़ें…पीएम मोदी की विदेश नीति भी हो गई फेल, चीन ने रोकी कैलाश मानसरोवर यात्रा, फंसे श्रृद्धालु

ढाई करोड़ की लागत- 

बरेली में बीडीए ने इसका निर्माण ढाई करोड़ की लागत से कराया था। बगैर किसी प्लानिंग के बने इस साइकिल ट्रैक के कारण इसका कोई फायदा लोगों को नहीं मिल सका। लिहाजा अब इसे तोड़ा जाएगा और ढाई करोड़ मिट्टी में मिल जाएंगे।

सपा ने जताया ऐतराज- 

सरकार के इस फैसले पर समाजवादी पार्टी ने विरोध जताया है। सपा के जिलाध्यक्ष शुभलेश यादव का कहना है कि मौजूदा सरकार हर मोर्चे पर विफल है। वह पिछली सरकार की योजनाओं को खत्म कर रही है या ​उसके नाम बदल रही है। साइकिल ट्रैक अखिलेश यादव ने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए बनवाए थे, लेकिन मौजूदा सरकार अतिक्रमण के बहाने इसे तोड़ रही है। सपा इसका विरोध करती है और अगर प्रदेश नेतृत्व आदेश देगा तो इसके खिलाफ प्रदर्शन भी किया जाएगा।

Related posts

Share
Share