You are here

दलित राष्ट्रपति बनाना “शबरी की श्रेष्ठता नहीं बल्कि श्रीराम का बड़प्पन साबित करने का प्रयास है”

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

बीजेपी ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है. इसके बाद रामनाथ कोविंद की योग्यता पर बात करने की बजाए बीजेपी ने उनके दलित होने की मार्केटिंग कुछ ज्यादा ही कर दी. अब सोशल मीडिया में सवाल तैर रहा है कि ओबीसी आरक्षण के विरोधी और दलित समस्या पर कभी मुंह ना खोलने वाले रामनाथ कोविंद को दलित आखिर क्यों माना जाए. वहीं ये भी सवाल लोग उठा रहे हैं कि कोविंद जैसे लोगों को दलित घोषित करके बीजेपी आखिर क्या साबित करना चाहती है.

वरिष्ठ पत्रकार अश्वनी कुमार श्रीवास्तव ने अपने इस लेख में बताने की कोशिश की है कि रामनाथ कोविंद को दलित साबित करके बीजेपी आखिर कहां निशाना लगाना चाहती है-

इसे भी पढ़ें-जिस जज पर लगाए थे जस्टिस कर्णन ने आरोप उसी जस्टिस को सौंप दिया कर्णन का केस

मकसद राम की श्रेष्ठता स्थापित करना सबरी की नहीं- 

दलित राष्ट्रपति बनाना अच्छा कदम है। लेकिन सांकेतिक तौर पर अपने साथ जोड़ने की बजाय कहीं बेहतर होता कि सभी तथाकथित सवर्ण मिलकर जाति प्रथा ही ध्वस्त कर दें। वरना दलित को राष्ट्रपति बनाना श्री राम द्वारा शबरी के बेर खाने जैसा ही सांकेतिक कदम माना जायेगा, जिसका मकसद शबरी को बराबरी देना नहीं बल्कि राम की श्रेष्ठता को स्थापित करना ही है।

गांव में भाजपाईयों का दलितों के प्रति क्या व्यवहार है- 

दलित राष्ट्रपति बनाकर भाजपा हिन्दू राज और सवर्ण श्रेष्ठता को ही स्थापित करना चाहती है। जबकि ग्रास रूट यानी गांव-देहात कस्बों में दलित आज भी सवर्ण भाजपाइयों के लिए हिकारत और घृणा के पात्र हैं, जिन्हें वे न तो बराबरी देना चाहते हैं और न ही उन्हें किसी और संसाधन में हिस्सा देने को तैयार हैं।

इसे भी पढ़ें- किसानों को योगा सिखाने वालों में दम है तो इस किसान पुत्र की तरह भैंस शीर्षासन करके दिखाए

वर्ण व्यवस्था को धवस्त करना होगा- 

जातिप्रथा को ध्वस्त करने के लिए धर्म और धार्मिक ग्रंथों में वर्णव्यवस्था को उसी तरह से अछूत, शूद्र और म्लेच्छ घोषित करवाने के लिए सवर्णों को एकजुट होना होगा, जैसे कि कभी खुद को ऊंचा और दूसरों को नीचा, शूद्र और म्लेच्छ घोषित करवाने के लिए इनके पूर्वज एकजुट हुए थे। रोटी, बेटी और बराबरी का संबंध जिस दिन सभी हिंदुओं में बन जायेगा, नाम से जाति, गोत्र आदि की नस्लीय पहचान मिट जाएगी, धर्मग्रंथों में जातिवाद के चैप्टर, श्लोक या किसी भी तरह के जिक्र को हमेशा-हमेशा के लिए मिटा दिया जाएगा, जातिवाद खुद-ब-खुद ध्वस्त हो जाएगा।

ईसाई या मुस्लिम में जातिवाद क्यों नहीं है- 

ईसाइयों या मुस्लिमों में जातिवाद क्यों नहीं रहा? क्योंकि उनके धर्मग्रंथ सभी ईसाई या मुसलमान को एक बराबर मानते हैं। बस यही संदेश हमारे धर्मग्रंथ दे दें…बात ही खत्म हो जाएगी।

सवर्णता के साथ मनुष्यता ? यह संभव नहीं है। सवर्ण होने के बाद कोई मनुष्य कैसे हो सकता है? मनुष्यों के बीच किसी मनुष्य द्वारा ही बाकियों से जन्मजात श्रेष्ठता की भावना रखना ही ग़ैर मनुष्यता के लक्षण हैं।

इसे भी पढ़ें- जस्टिस कर्णन की गिरफ्तारी के बाद छिड़ी बहस, देश क्या आज भी मनु की मनुस्मृति के चल रहा है

जन्मजात श्रेष्ठता देश के हानिकारक- 

किसी कथित निम्न जाति को जन्म के आधार पर अयोग्य माना गया, यह सच नहीं है। कथित निम्न जातियों को योग्यता या अयोग्यता साबित करने का मौका ही देने से इनकार कर दिया गया है। दरअसल, सवर्ण बिरादरी अपने देश में ही फेयर कॉम्पटीशन नहीं चाहती और न ही करती है। इसलिये भारत के नाम पर अभी जो भी सेना, खेल टीम या कुछ भी दिख रहा है, वह सवर्ण भारत ही है। सवर्ण भारत की यह व्यवस्था आरक्षण से आई है, बिना किसी प्रतिस्पर्धा के…जन्म के आरक्षण से।

Related posts

Share
Share