You are here

अखिलेश की योजनाओं से समाजवादी शब्द हटा, बरेली एयरपोर्ट पर भगवा रंग चढ़ा नाम हुआ ‘नाथ एयरपोर्ट’

लखनऊ/ नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

यूपी की महंत आदित्यनाथ की धार्मिक सरकार ने सरकारी भवनों और स्थानों के नामों पर भगवा रंग चढ़ाना शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं योजनाएं अखिलेश वाली सभी चालू रहेंगी लेकिन उनसे समाजवादी शब्द हटा दिया गया है।

कैबिनेट बैठक में मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बरेली और कानपुर एयरपोर्ट के नाम बदल दिए। नए फैसले के तहत अब बरेली एयरपोर्ट को ‘नाथ एयरपोर्ट’ और कानपुर के चकेरी एयरपोर्ट को गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम पर जाना जाएगा। विपक्ष का आरोप है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार हवाईअड्डों के नाम बदलकर हिंदूवादी सोच को आगे बढ़ा रही है।

कट्टर धार्मिक लोगों को खुश करने की कोशिश- 

बरेली शहर के चारों कोनों पर नाथ मंदिर हैं। यहां लंबे समय से हिंदुवादी संगठन बरेली का नाम नाथनगरी करने की मांग करते रहे हैं। योगी सरकार के लिए बरेली शहर का नाम बदलना उतना आसान नहीं है, लेकिन सरकार ने बरेली एयरपोर्ट का नाम बदलकर एक वर्ग को खुश रखने की कोशिश की है।

इसी तरह कानपुर के चकेरी एयरपोर्ट का नाम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम पर रखने का फैसला किया है। इलाहाबाद में जन्मे गणेश शंकर की कर्मभूमि कानपुर ही रही है। वर्ष 1931 में कानपुर में हुए हिंदू-मुस्लिम दंगों के दौरान उनकी हत्या कर दी गई थी।

दूसरी बार बदले नाम- 

करीब पांच महीने कार्यकाल में ऐसा दूसरी बार है, जब योगी सरकार ने यूपी के एयरपोर्ट्स के नाम बदले हैं। इससे पहले कैबिनेट की तीसरी बैठक में यूपी सरकार ने गोरखपुर सिविल एयरपोर्ट का नाम बदलकर योगी गोरखनाथ एयरपोर्ट तथा आगरा एयरपोर्ट का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट कर दिया था।

अखिलेश की कई योजनाओं का नाम बदला-

योगी सरकार ने अखिलेश सरकार की दर्जनों योजनाओं से समाजवादी शब्द हटा दिया है। जैसे कि समाजवादी एम्बुलेंस सेवा, समाजवादी स्मार्टफोन योजना, समाजवादी पेंशन योजना, समाजवादी स्वास्थ्य बीमा योजना, समाजवादी नमक वितरण योजना, समाजवादी किसान बीमा योजना, समाजवादी युवा स्वरोजगार योजना, समाजवादी हथकरघा बुनकर पेंशन योजना, समाजवादी रोजगार योजना, समाजवादी आवास योजना आदि।

Related posts

Share
Share