You are here

कानून व्यवस्था संभल नहीं रही, प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर लाठीचार्ज करके निकाला गु्स्सा

लखनऊ, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

यूपी में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर छात्रों और लोगों में जबरदस्त उबाल है.  योगी की पुलिस से कानून व्यवस्था तो संभल नहीं रही तो विरोध करने वालों पर ही गुस्सा निकाल दें. बुधवार को इसी खींज से भरी यूपी पुलिस ने विधानसभा का घेराव कर रहे छात्रों को बेरहमी से पीट दिया.

यूपी में हर रोज हत्या, बलात्कार, डकैती, लूट औऱ छेड़खानी की घटनाएं घट रही  हैं. यूपी में बढ़ते अपराधों खिलाफ देश भर के छात्र विधानसभा का घेराव करने पहुंचे थे. पर अपराधियों पर किसी भी तरह की लगाम लगाने में नाकाम सीएम योगी की पुलिस ने बड़ी बेरहमी से प्रदर्शनकारी छात्रों की ही पिटाई कर दी.

पिटाई से ओबीसी फोरम जेएनयू के दिलीप यादव घायल–  

पुलिस को इंटेलीजेंस के आधार पर काफी संख्या मे छात्रों के जुटने की सूचना मिल चुकी थी. इसलिए  विधानसभा के पास पहले ही भारी संख्या मे पुलिस बल तैनात कर दिया गया था.  जब आईटीओ के पास छात्र जुटने शुरू हुए तो पुलिस ने आंदोलनकारी छात्रों को हटाना शुरू कर दिया. जब छात्र नहीं माने तो पुलिस ने छात्रों पर लाठी चार्ज कर दिया. पुलिस की इस बर्बरतापूर्ण कार्रवाई में जेएनयू छात्र और यूनाईटेड ओबीसी फोरम के संयोजक दिलीप यादव समेत कई लोगों  को गंभीर चोट आई है.

छात्रोंं ने कहा तानाशाह का शासन है- 

पुलिस के बर्बर लाठीचार्ज की तुलना छात्रों ने अंग्रेजी शासन द्वारा आजादी की लड़ाई लड़ने वाले क्रांतिकारियों पर हमले से की. संदीप निषाद ने कहा कि आजादी से कुछ नहीं बदला. सिर्फ सत्ता गोरे अंग्रेजों के हाथ से छूटकर काले भारतीयों के हाथ में आ गई है. पुलिस का रवैया आज भी अंग्रेजी शासन वाला ही है.

देश भर के विश्वविद्यालयों से जुटे थे छात्र- 

आपको बता दे कि बीते दिनों बुंलदशहर हाईवे पर चार मुस्लिम महिलाओं के साथ हुए बलात्कार की घटना के विरोध में जेएनयू, डीयू, लखनऊ यूनिवर्सिटी, पटना यूनिवर्सिटी, और बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, के छात्रों ने आज लखनऊ में विधानसभा के घेराव की घोषणा की थी. विश्वविद्यालय के छात्रों के अलावा अन्य नागरिक संगठन भी बिगड़ती कानून व्यवस्था के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. पुलिस द्वारा छात्रों और अन्य नागरिक संगठनों  पर की गई कार्रवाई की कड़ी निंदा हो रही है.

Related posts

Share
Share