You are here

हरियाणा की बेटी गीता यादव की पीएम से गुहार, मुझे मेरे पति और मंत्री से जान का खतरा

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पूरी बीजेपी मंचों से कितना भी जोर से बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ का नारा देते रहें लेकिन बीजेपी के मंत्रियों के कारनामे ही उनकी इस बात पर पलीता लगाने के लिए काफी हैं. मामला बहुत पुराना और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के संज्ञान में है. लेकिन सीएम साहब भी इस हाईप्रोफाइल मंत्री के सामने चुप्पी मारकर बैठें हैं.

हाल ये है कि हरियाणा से निकलकर एक अलग मुकाम बनाते हुए आईआईएमसी और फिर सूचना विभाग में अधिकारी बनीं गीता यादव को उसके पति देवेन्द्र यादव और शिक्षा मंत्री के कहने पर पुलिस द्वारा फर्जी मुकदमे दर्ज करके प्रताड़ित किया जा रहा है. जबकि गीता की तरफ से पति के खिलाफ पुलिस में दी गई शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही. इसके उलट गीता को जान से मारने की धमकी भी दी जा रही हैै.

पढ़िए इस पत्र को जो गीता ने पीएम को लिखा है और देखिए- जब एक पढ़ी लिखी एक्टीविस्ट और भारतीय सूचना सेवा की अधिकारी के साथ शासन-सत्ता इस तरह खेल सकता है, तो बीजेपी के राज्य में खुद कितना सुरक्षित हैं.

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी,

विषय- गुड़गांव पुलिस के बड़े टॉर्चर और हरैसमेंट के बाद ये लेटर लिख रही हूँ.

पिछले एक साल से एजुकेशन मिनिस्टर रामबिलास शर्मा, मंत्री के भाई राजेंद्र यादव, मेरे हस्बैंड देवेंदर यादव, (मेंबर HSSC ) और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के पूर्व OSD जवाहर यादव, फिलहाल ‘हरियाणा ग्रुप हाउसिंग बोर्ड’ में हैं, के इशारों पर पुलिस मुझे टॉर्चर कर रही है. हस्बैंड के खिलाफ कंप्लेंट पर कोई एक्शन नहीं लिया जबकि, उलटे मेरे खिलाफ एक के बाद एक False FIR दर्ज़ की जा रही है.
एक मुकदमे का तो आज नवभारत टाइम्स अख़बार से मुझे पता चला है.

माननीय महिला विकास बाल मंत्रालय, नई दिल्ली को अपनी समस्या लिखने पर, मंत्रालय ने मामले की गंभीरता को समझते हुए, फेयर इन्वेस्टीगेशन के लिए DGP हरियाणा को लिखा. जिससे मेरे ऊपर पहले फाइल की गयी 2 FALSE FIR और मेरी कंप्लेंट (अगेंस्ट हस्बैंड) अभी क्राइम ब्रांच को इन्वेस्टीगेशन के लिए दे दी गयी.

लेकिन इसी दौरान ये तीसरा मुक़दमा सामने आया है.

पुलिस कमिश्नर, संदीप खिरवार, 1995 Batch IPS इस मामले में पूरी तरह लिप्त हैं, और मुझे लगातार डरा धमका रहे हैं, जिसकी लिखित शिकायत मैं, होम सेक्रेटरी, MHA , भारत सरकार और होम सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार को कर चुकी हूँ,
बावजूद इसके एक और फ़र्ज़ी मुक़दमा दर्ज़ हो गया है.

महिला आयोग से लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, सबसे मिल चुकी हूं, लेकिन ये टॉर्चर और हरैसमेंट बंद नहीं हो रहा.
1- हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा, जिनसे देवेंद्र के घरेलु और बिज़नेस रिलेशन है,
2-और उसके छोटे भाई राजेंदर यादव,
3- जवाहर यादव, CM हरियाणा के पूर्व OSD
4 -हस्बैंड देवेंदर यादव (मेंबर HSSC)
5- कमिश्नर ऑफ़ पुलिस गुडगाँव, संदीप खिरवार, 1995 batch IPS,
6- ACP धारणा यादव, गुडगाँव पुलिस
7 -हस्बैंड के दोस्त- राजेश यादव, (मीडिया सलाहकार- रामबिलास शर्मा,)

से जान का खतरा है. ये लोग लगातार मुझे झूठे मुकदमों में फंसा रहे है.  मुझे उम्मीद है आप इस मामले को संज्ञान में लेंगे मेरे साथ न्याय करेंगे., जिन्दा रहने के लिए इस लेटर के अलावा और क्या किया जा सकता है, मैं नहीं जानती.

((मैं केंद्र सरकार की कर्मचारी हूँ, और अभी PIB, दिल्ली में पोस्टेड हूँ.))

Related posts

Share
Share