You are here

गैंगरेप की 2 पीड़िताओं ने किया आत्महत्या का प्रयास, गिरफ्तारी ना होने से मुस्लिमों में आक्रोश

ग्रेटर नोएडा। नेशनल जनमत ब्यूरो।

जेवरकांड की दो गैंगरेप पीड़िताओं ने रविवार को अपने घर पर आत्महत्या का प्रयास किया. जेवरकांड के समय कार चला रहे व्यक्ति की पत्नी ने रविवार दोपहर लगभग 1 बजे पंखे से लटककर आत्महत्या का प्रयास किया, वही लगभग 2:30 बजे दूसरी पीडि़ता ने कमरे में बंद होकर अपने ऊपर कैरोसीन डालकर आत्महत्या का प्रयास किया. लेकिन घर के अन्य सदस्यों ने उन्हें ऐसा करते हुए देख लिया जिसके चलते सही समय पर उनकी जान बचा ली गई।

इसे भी पढ़ें- क्या गणेश को टॉप कराना नीतीश तेजस्वी को बदनाम करने की भाजपाई साजिश है

पीडि़त परिजनों का आरोप है कि जघन्य घटना के बाद पुलिस, प्रशासन, जनप्रतिनिधि और अधिकारी अभी तक किसी ने भी हालचाल नहीं जाना है। घटना के बाद से पीडि़तायें पूरी तरह से मानसिक तनाव में हैं।

11 दिन बाद भी कोई गिरफ्तारी नहीं-

बता दें कि घटना के 11 दिन बीत जाने के बाद पुलिस आरोपियों का सुराग नहीं लगा सकी है. बीती 24 मई देर रात जेवर का एक परिवार कार में सवार होकर जेवर-बुलन्दशहर मार्ग बुलन्दशहर में भर्ती अपनी बहन से मिलने के लिए जा रहे थे। तभी साबौता गांव के करीब उनकी कार के टायर पंचार हो गये। उन्होंने कार को सडक़ किनारे लगा कर टायरों की व्यवस्था शुरू कर दी।

इसे भी पढ़ें- ओबीसी हितों के लिए प्रदर्शन करने वाले 9 योद्धाओ को जेएनयू से निकालने की साजिश

4 मुस्लिम महिलाओं से हुआ था रेप-

इसी दौरान आधा दर्जन बदमाशों ने उन्हें हथियारों के बल पर बंधक बना लिया और जंगल में ले जाकर लूटपाट की। विरोध करने पर परिवार के मुखिया की गोली मारकर हत्या कर दी। कार में सवार चार महिलाओं के अनुसार बदमाशों ने उन्हें घटनास्थल से दूर ले जाकर गैंगरेप किया। घटना के बाद से ही सभी पीडि़तायें मानसिक तनाव के दौर से गुजर रही है। वहीं अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने के कारण पीडि़त परिजनों में भारी रोष है।

इसे भी पढ़ें- सपा के समय में उ.प्र. को कुत्ता प्रदेश कहने वाले आईएएस के घर पर भगवाधारियों का हमला

Related posts

Share
Share