You are here

क्या गणेश को टॉप कराना नीतीश-तेजस्वी को बदनाम करने की भाजपाई साजिश है ?

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

बिहार टॉपर मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. गणेश जिस स्कूल से पढ़ा है वो बिहार के एक बीजेपी नेता का है.बिहार टॉपर गणेश की गिरफ्तारी के बाद कई राज खुले हैं. गणेश ने पटना पुलिस के सामने जो बयान दिया है उससे ऐसा लग रहा है कि लालू-नीतीश गठबंधन को बदनाम करने के लिए सुनियोजित तरीके से गणेश को टॉपर बनाया गया है.

इसे भी पढ़िए- ओबीसी हितों के लिए प्रदर्शन करने वाले 9 योद्धाओ को जेएनयू से निकालने की साजिश

मामले में आ रही है साजिश की बू-

गणेश ने जो बयान दिया उससे करीब एक दर्जन लोग पुलिस के रडार पर आ गए हैं. गणेश ने बताया कि उसने जिस जगदीश इंटर कॉलेज से पढ़ाई करके टॉप किया है. वह बीजेपी नेता का स्कूल है और उसका पुत्र स्कूल का प्रिंसिपल है.

बीजेपी नेता के स्कूल में पढ़ा है गणेश-

अब जवाहर प्रसाद सिंह और उनके बेटे अभितेंद्र सिंह की गिरफ्तारी के लिए पुलिस विभिन्न जगहों पर छापेमारी कर रही है. जवाहर प्रसाद सिंह भाजपा के नेता हैं और अभितेंद्र कॉलेज के प्रिंसिपल हैं. इस मामले में पटना पुलिस की विशेष टीम ने शनिवार देर शाम मुसल्लहपुर इलाके से एक अन्य आरोपी संजय कुमार को गिरफ्तार किया है.

इसे भी पढ़ें- पशु बैन से सबसे ज्यादा नुकसान खेतिहर और पशुपालक जातियो को है

शुक्रवार की रात गिरफ्तार हुए गणेश कुमार से पटना पुलिस ने एसएसपी मनु महाराज के नेतृत्व में लंबी पूछताछ की। पूछताछ के दौरान गणेश ने स्वीकार किया कि उसने दो बार मैट्रिक और दो बार इंटर की परीक्षा दी है। पहली बार 1990 में मैट्रिक की परीक्षा गीरीडीह के एसआरएसएसआर स्कूल से और 1992 में इंटर रामलखन सिंह कॉलेज से किया। उसके बाद वो एक चिटफंड कंपनी में काम किया, जिसमें उसे 15 लाख का कर्ज हो गया।

जेडीयू नेताओं ने उठाए सवाल-

जेडीयू नेता राजीव ने बीजेपी नेता के स्कूल से गणेश की पढ़ाई की बात सामने आने पर कहा कि बीजेपी ने जानबूझकर नकल देकर या अन्य गलत तरीकों से ऐसे व्यक्ति को टॉप कराया. जिसपर बाद में सवाल उठाया जा सके और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को बदनाम किया जा सके. निश्चित रूप से ये बिहार को और नीतीश कुमार को बदनाम करने की भाजपाई साजिश है.

इसे भी पढ़ें- पेरियार की धरती से नीतीश का ऐलान देश पर बीजेपी को अपना एजेंडा नहीं थोपने देंगे

बोर्ड अध्यक्ष से मांगा स्पष्टीकरण- 

शिक्षामंत्री ने पूरे मामले पर बोर्ड अध्यक्ष से स्पष्टीकरण मांगा है. तथ्य छुपाने के कारण बोर्ड अध्यक्ष पर सीएम भी नाराज बताए जा रहे हैं. देर-सबेर उन पर भी कार्रवाई होना तय है. सरकार से कार्रवाई की मांग को लेकर शनिवार को भी बोर्ड कार्यालय के सामने छात्रों का प्रदर्शन हुआ.

जेडीयू किसी भी साजिश की ओर भले ही इशारा कर रही हो लेकिन इस साजिश का पता लगाना और उस पर कार्रवाई करना सत्ता में होने के नाते उसी की जिम्मेदारी है.

इसे भी पढ़ें- योगीराज पीएम की काशी के 24 थानों में से 23 पर ठाकुर ब्राह्मणो का कब्जा

Related posts

Share
Share