You are here

गौरी लंकेश सिर्फ एक पत्रकार नहीं विचारक थीं, हत्या के विरोध में देश भर में प्रदर्शन, CBI जांच की मांग

नई दिल्ली/ बेंगलुरू, नेशनल जनमत ब्यूरो।

कन्नड़ लेखिका, वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश सिर्फ एक पेशेवर पत्रकार हीं नहीं बल्कि देश में बनाए जा रहे छद्म माहौल के प्रति मुखर रहने वाली विचारक भी थीं। इसलिए उनकी हत्या के विरोध में देश भर में हजारों लोगों प्रदर्शन कर रहे हैं। बेंगलुरू से लेकर दिल्ली तक हत्या के विरोध में जबरदस्त प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

केरल में बड़ी संख्या में शामिल होकर पत्रकारों ने विरोध प्रदर्शन किया। इसके अलावा साबरमती आश्रम सहित दिल्ली प्रेस क्लब में इस दुखद घटना के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है। वहीं परिजनों ने सीबीआई जांच की मांग की है।

गौरी लंकेश के भाई इंद्रजीत लंकेश ने इस मामले की सीबीआई से जांच कराए जाने की मांग की है। इंद्रजीत ने कहा, वह एक एक्टिविस्ट थीं और अपना काम कर रही थीं। वैचारिक मतभेदों को लेकर वह राइट विंग के लोगों के निशाने पर थीं।

गौरी को निर्भीक और बेबाक पत्रकार माना जाता था। वह कर्नाटक की सिविल सोसायटी की चर्चित चेहरा थीं। लेफ्ट विचाराधारा से प्रभावित गौरी लंकेश हिंदुत्ववादी राजनीति की मुखर आलोचक थीं।

इंद्रजीत लंकेश ने कहा, ‘गौरी के सीने पर गोलियां दागी गईं। सीसीटीवी में सबकुछ कैद हो चुका है। मैने पुलिस से आग्रह किया है कि वे मेरे और मां के सामने सीसीटीवी फुटेज देखें।’ इंद्रजीत ने कहा, ‘गौरी अपनी आंखे दान करना चाहती थीं। दुख की इस घड़ी में मुझे थोड़ी सी राहत मिली है क्योंकि अब एक मरीज को आंखें मिल सकेंगी।’

कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने गौरी लंकेश की हत्या को लोकतंत्र की हत्या करार दिया है। आपको बता दें कि मंगलवार को तीन लोगों ने गौरी लंकेश पर सात गोलियां चलाईं। जिनमें से तीन गोलियां उनको लगीं। वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं।

गौरी लंकेश राइट विंग के खिलाफ लिखने के कारण कई लोगों के निशाने पर थीं। उन्हें कई बार धमकियां भी मिली थीं। लेकिन धमकियों के बाद भी उन्होंने कट्टपंथी ताकतों के खिलाफ लिखना बंद नहीं किया। जिसकी कीमत उन्हें अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।

गौरी लंकेश कन्नड़ पत्रकारिता में एक नए मानदंड स्थापित करने वाले पी. लंकेश की बड़ी बेटी थीं। वह वामपंथी विचारधारा से प्रभावित थीं और हिंदुत्ववादी राजनीति की मुखर आलोचक थीं।

इसे भी पढ़ें-

 संघी एजेंडा: OBC/SC/ST के खिलाफ साजिश,आरक्षण खात्मे से सरकारी नौकरी खत्म, नोटबंदी से प्राइवेट नौकरी खत्म

 जुमला साबित हुआ PM का भ्रष्टाचार मुक्ति का वादा, MP में करप्शन के खुलासे पर IAS दंपति का तबादला

आधा दर्जन केस वाले सांसद को PM ने बनाया केन्द्रीय मंत्री, लोग बोले ‘साफ छवि’ भी मोदी जी का जुमला है

फर्रुखाबाद: बच्चों की मौत मामले में DM-CM आमने सामने, DM ने योगी सरकार के खिलाफ दर्ज कराई FIR

BJP-RSS को धर्म से नहीं जाति से पकड़िए, RSS को हिन्दुवादी कहने से उसका जातिवादी चरित्र छुप जाता है

Related posts

Share
Share