You are here

BSP नेता का हत्यारा निकला महंत प्रतिभानंद, गाजियाबाद से गिरफ्तार

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो 

गाजियाबाद पुलिस ने दिल्ली के बीएसपी नेता की हत्या का मामला सुलझा लिया है। इस मामले में गाजियाबाद पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। दिल्ली के बसपा नेता की करीब आठ साल पहले गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

दिल्ली के बसपा नेता दीपक भारद्वाज की हत्या के सरगना को गाजियाबाद पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है। हत्या का आरोपी महंत प्रतिभानंद हुलिया बदल कर चार साल से पुलिस को झांसा दे रहा था। पुलिस ने आरोपी महंत का सुराग देने वाले को 1 लाख रुपये के ईनाम देने की घोषणा की थी। महंत को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस पूछताछ कर रही है।

बताते चलें 26 मार्च 2013 को सुबह करीब 9 बजे बीएसपी नेता दीपक भारद्वाज की साउथ दिल्ली स्थित उनके 35 एकड़ के फार्महाउस में गोली मार कर हत्या कर दी गई थी।

बीएसपी नेता दीपक भारद्वाज 2009 में वेस्ट दिल्ली से बीएसपी के टिकट पर लोक सभा चुनाव भी लड़ा था। उस वक्त वह सबसे अमीर उम्मीदवार थे। उन्होंन उस सयम 600 करोड़ रुपये की अपनी निजी संपत्ति बताई थी।

हत्या के इस मामले में पुलिस ने उनके बेटे नितेश भारद्वाज को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद नितेश ने अपना जुर्म कबूल कर लिया था।
नितेश ने पुलिस को पूछताछ में बताया था कि उसने पिता की हत्या प्रॉपर्टी विवाद और अवैध संबंधों की वजह से कराई थी।

नितेश ने हत्या के लिए 5 करोड़ रुपये की सुपारी दी थी। जिसके बाद आरोपी महंत प्रतिभानंद ने उसके पिता दीपक भारद्वाज की हत्या करने के लिए शार्प शूटर्स मुहैया कराए थे। नितेश के खुलासे के बाद से पुलिस आरोपी महंत की छानबीन कर रही थी।

पुलिस ने हत्या के आरोपी प्रतिभानंद के सिर एक लाख रूपये का ईनाम घोषित किया था। लेकिन महंत हुलिया बदलकर 4 साल तक पुलिस की पकड़ से बचता रहा। पुलिस की आंखों मे धूल झोंक रहे महंत प्रतिभानंद की सूचना बीते दिन गाजियाबाद पुलिस को मिली।

जिसके बाद पुलिस ने महंत को सिहानी गेट इलाके से गिरफ्तार किया। आपको बता दें मूल रूप से हरियाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले दीपक भारद्वाज बीएसपी के विधायक और बड़े व्यापारी थे।

Related posts

Share
Share