You are here

जब श्रम मंत्री से बोली लड़की, मंत्री के घर पर लगाती हूं पोछा इसलिए नहीं जा पाती स्कूल

भोपाल। नेशनल जनमत ब्यूरो।

एक तरफ तो भाजपा सरकार बेटियों की शिक्षा पर बड़ी-बड़ी बातें करती हैं  तो दूसरी तरफ मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार में उन्ही के मंत्री के घर पर काम करने के कारण एक लड़की पढ़ाई नहीं कर पा रही .

अंतरराष्ट्रीय बाल श्रम विरोध दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में 11 साल की बच्ची ने यह कहकर सबको चौंका दिया कि मैं ‘मंत्री के बंगले पर पोछा लगाती हूं” इसलिए स्कूल नहीं जाती. शिक्षा एवं श्रम राज्यमंत्री दीपक जोशी के सामने बच्ची ने यह जानकारी दी.

इसे भी पढ़ें- शिवराज सरकार किसान से बोला कोटेदार राशन चाहिए तो खुद के जिंदा होने का सबूत लेकर आओ

मंत्री का नाम पूछने पर बच्ची डर गई और चुप हो गई। इसके बाद जोशी ने वहां मौजूद बच्चों से पूछा कि कितने बच्चों के पिता शराब पीते हैं, सभी ने हाथ उठा दिए. रीजनल साइंस सेंटर में सोमवार को हुए इस कार्यक्रम में श्रम राज्यमंत्री दीपक जोशी मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद थे। बाल श्रम से जुड़े कुछ बच्चों ने जब मंत्री को अपने अनुभव सुनाए तो वे चौंक गए.

कार्यक्रम में जोशी ने ऐलान किया कि बाल श्रमिकों की खोजबीन के लिए सरकार अब इंजीनियरिंग, पॉलीटेक्निक कॉलेज एवं हायर सेकंडरी स्कूल के छात्रों से जासूसी कराएगी.

इसे भी पढ़ें- प्रतीक्षा में रह गई शहीद के नाम की गली, निगम पार्षद चौबे जी ने बना डाली पांडे गली

हर जिले में होने वाले सर्वे की रिपोर्ट श्रम विभाग को सौंपी जाएगी. छात्र यह जानकारी छुट्टी के दिन जुटाएंगे, उनकी पहचान गोपनीय रखी जाएगी। जांच के बाद नियोक्ताओं पर कार्रवाई भी होगी। उन्होंने कहा कि बचपन बचाने के लिए सरकार और समाज को मिलकर कार्य करना होगा.

5000 हजार एनजीओ के बाद भी ये हाल है- 

कार्यक्रम में बाल आयोग के अध्यक्ष डॉ. राघवेन्द्र ने बताया कि बाल श्रम के विरोध में 5 हजार संस्थाएं काम कर रही हैं। इसके बावजूद यह समस्या बनी हुई है।.बच्चों को पढ़ाई और अच्छा माहौल देने की पहली जिम्मेदारी माता-पिता की है।

इसे भी पढ़ें- जन्मजात श्रेष्ठता का दंभ तोड़ती है देश के सबसे सफल कोचिंग संस्थान के फाउंडर आनंद की कहानी

 

Related posts

Share
Share