You are here

है गोदी मीडिया के पत्रकार में हिम्मत जो चेक कर सके बीजेपी सांसद लेखी का ‘सवच्छ-सवस्थ’ ज्ञान

नई दिल्ली। नेशनल जनमत जनमत ब्यूरो।

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी के हिंदी लेखन की सोशल मीडिया पर जमकर चर्चा हो रही है। आपको बता दें कि एक स्कूल आयोजित कार्यक्रम में मीनाक्षी लेखी अतिथि के तौर पर गई थी. यहां स्कूल के ब्लैक बोर्ड पर मीनाक्षी लेखी ने अपने विजिंटिंग नोट में हिंदी भाषा में ‘ स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत’ लिखा . पर हिंदी भाषा में अपना विजिटिंग नोट गलत लिखने पर ये खबर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है.

इसे भी पढ़ें…अमरीका में लगे मोदी गो बैक के नारे, लोगों ने कहा भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं मोदी

आपको बता दें कि भाजपा अक्सर एक राष्ट्र एक भाषा की बात करती है. हिंदी, हिंदू , हिंदुस्तान के नारे को पार्टी का वैचारिक समर्थन रहा है. पर ये बड़े आश्चर्य की बात है कि पार्टी की ही एक सांसद को हिंदी लिखना भी नहीं आता. मीनाक्षी लेखी के हिंदी लेखन पर सोशल मीडिया में पार्टी का भी खूब मजाक उड़ रहा है. इसी बहाने लोग सोशल मीडिया पर मीनाक्षी लेखी की पढ़ाई-लिखाई पर भी सवाल उठा रहे हैं. प्रख्यात सामाजिक चिंतक दिलीप मंडल अपनी फेसबुक वॉल पर लिखते हैं…

इसे भी पढ़ें…फकीर पीएम झारखंड के दौरे पर खा गए 44 लाख का खाना , 75 मिनट के दौरे पर 9 करोड़ रूपए खर्च

ABP चैनल को चाहिए कि इनका टैलेंट चेक करने रिपोर्टर उत्कर्ष सिंह को भेजे। बिहार टॉपर गणेश राम से 40 सवाल पूछने का उसे अनुभव है। ये मीनाक्षी लेखी हैं। नई दिल्ली से सांसद और बड़ी वाली वकील तो हैं ही, साथ ही काफी पढ़ी-लिखी हैं। दिल्ली से स्कूलिंग की है। हिंदी की पढाई की है। हिंदू कॉलेज से बॉटनी में बीएससी हैं, और फिर एलएलबी तो हैं ही। संसद में बिलों का प्रारूप तैयार करती हैं। महिला आरक्षण बिल और कार्यस्थल महिला यौन उत्पीड़न बिल की लिखा-पढ़ी इन्होंने की है। फोर्थराइट और द वीक जैसी पत्रिकाओं में लिखती हैं। टीवी पर बतियाती तो रहती हैं। अब इनकी डिग्री की भी जांच करनी चाहिए। बिहार की रूबी और गणेश के ही पीछे पड़े थे क्या.

Related posts

Share
Share