You are here

गोरखपुर: अपमानजनक सजा से आहत 5वीं के बच्चे ने सुसाइड नोट लिखकर आत्महत्या की

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

लगता है गोरखपुर में बच्चों की जान की कोई कीमत नहीं है। पिछले महीने ही गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की सप्लाई रुकने से एक ही दिन में 30 से अधिक बच्चों की मौत हो गई थी। अब सीएम के गढ़ में एक शिक्षक की पिटाई से आहत होकर एक बच्चे ने आत्महत्या कर ली है।

घटना गोरखपुर के सेंट एंथोनी कॉन्वेंट स्कूल की है। जहां शिक्षक द्वारा पीटे जाने के बाद कक्षा पांच के एक छात्र ने आत्महत्या कर ली। पुलिस के मुताबिक, बच्चे ने 15 सितंबर को जहर खाया जिसकी बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान बुधवार को मौत हो गई।

12 साल के कक्षा 5 के छात्र नवनीत प्रकाश ने अपने पिता रवि प्रकाश को सुसाइड नोट में लिखा कि आज 15 सिंतबर को मेरा पहला एक्जाम था। मेरी क्लास टीचर ने मुझे बहुत देर तक रुलाया, क्लास के बाहर खड़ा रखा, इसलिए क्योंकि वह चापलूसों की बात मानती है।

सुसाइड नोट में उसने आगे लिखा, टीचर की इस सजा से आहत होकर मैंने आत्महत्या करने का फैसला किया है।

नवनीत ने आगे लिखा कि वह कक्षाध्यापक की बातों में न आएं उसने उसे 14 सितंबर को 3 घंटे तक मेज पर खड़ा रखा था। नवनीत ने आगे सुसाइड नोट में लिखा, आज मैंने सोच लिया है कि मैं मरने वाला हूं। मेरी आखिरी इच्छा है कि कृपया कोई मेरी क्लास टीचर को बताए कि वह इस तरह का अपमाजनक दंड किसी दूसरे बच्चे को न दें।

घटना के बाद नाराज परिजनों ने स्कूल बिल्डिंग पर पथराव किया, जिससे स्कूल की खिड़कियां क्षतिग्रस्त हो गई और स्कूल के वाहनों को नुकसान पहुंचा। आक्रोशित बच्चे के परिजनों और स्कूल स्टॉफ के बीच तीखी झड़प भी हुई। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह स्थिति पर नियंत्रण किया।

बाबा रे बाबा ! अब फलाहारी बाबा पर लॉ स्टूडेंट को जज बनवाने का झांसा देकर बलात्कार करने का आरोप

रेपिस्ट राम रहीम के समर्थक BJP सांसद का भगवा ज्ञान, प्रेमी जोड़ों को जेल में डाल दो, रुक जाएंगे रेप

न्यूयार्क के टाइम्स स्क्वायर पर राहुल का PM पर वार, असहिष्णुता से बिगड़ी विश्व में भारत की छवि

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ी ‘प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना’, ट्रेनिंग के बाद भी 20 लाख बेरोजगार

तो क्या सिर्फ नवरात्रि में ही मीट की दुकान बंद करवाने से सारे हिन्दू शाकाहारी हो जाएंगे ?

UP के 40 IAS ऑफीसर्स को मंसूरी से बुलावा, प्रदेश के कई जिलों में खाली होगी DM की कुर्सी

चाटुकारिता: BJP के मंत्री ने शिवराज के राज को त्रेता के रामराज और द्वापर के कृष्णराज से बेहतर बता दिया

 

Related posts

Share
Share