You are here

अब गुजरात केंद्रीय वि.वि. के छात्रों ने भी भगवावाद को नकारा, छात्र संघ चुनाव में ABVP का सफाया

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

जेएनयू, डीयू, हैदराबाद, इलाहाबाद विश्वविद्यालयों में भगवावाद को नकारने के बाद अब पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के गृहराज्य गुजरत मे भी छात्र-छात्रो ने भगवावाद को पूरी तरह से खारिज कर दिया है।

गुजरात केंद्रीय विश्वविद्यालय से ABVP का छात्र परिषद चुनाव में पूरी तरह सफ़ाया हो गया है। गुजरात विधानसभा चुनाव से चन्द दिनों पहले हुए गुजरात केंद्रीय विश्वविद्यालय के ‘छात्र परिषद चुनाव’ में सभी सीटों पर एबीवीपी का हारना बीजेपी के लिए परेशानी का सबब बन सकता है।

सभी सीटों पर स्वतंत्र उम्मीदवारों ने जीत का परचम लहराया और विपक्ष के तौर पर एकमात्र संगठन ABVP का कैंपस से पूर्णतयः सफाया हो गया। इस छात्र परिषद की चुनावी प्रक्रिया में हुईं धाधंली व उसके अलोकतांत्रिक एवं अक्षम रवैये के चलते कैंपस के अन्य संगठनों यानि BAPSA, NSUI, LDSF एवं यूनाइटेड OBC फोरम ने छात्र परिषद के इस चुनाव का बहिष्कार किया।

‘भगत सिंह विचार मंच’ के संयोजक एवं छात्र नेता ‘हिमांशु यादव’ के नेतृत्व में चुनाव आयोग के भीतर हुई धाधंली के चलते सत्ता पक्ष के खिलाफ़ यानि ABVP विरोधी सभी संगठनों ने एक साथ एकजुटता दिखाते हुए बीच चुनाव से ही, इस छात्र परिषद के चुनाव का बहिष्कार किया।

प्रशासन एवं चुनाव आयोग के खिलाफ में दो दिनों तक जोरदार धरना-प्रदर्शन किया। जिसके चलते चुनाव वोटिंग का प्रतिशत काफी कम रहा। चूंकि यह चुनाव काफी विवादस्पद रहा और इस चुनाव में केंद्र एवं राज्य दोनों में सत्ता पक्ष यानि बीजेपी/आरएसएस से संबन्धित छात्र संगठन ABVP ने परिसर भगवा लहराने के लिए सत्ता का भरपूर दुरूपयोग किया।

सत्ता पक्ष के संगठन ABVP ने ‘चुनाव आयोग और प्रशासन’ पर दबाव डालकर चुनाव के नियमों को खूब धज्जियाँ उड़ाई। इतना सबकुछ करने के बावजूद भी उसे करारी हार का सामना करना पड़ा। उनके द्वारा की गयी गलतियों का खामियाजा भी उन्हें बाद में जाकर भुगतना पड़ा।

इस छात्र परिषद के चुनाव में विभिन्न विभागों में मतदान हुई सीटों पर स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर सबसे बड़े विभाग यानि ‘स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज’ से स्वतंत्र प्रत्याशी रहे ‘दलीप कुमार’ ने बाजी मारी।

इसके अलावा अन्य विभाग ‘स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज़’ से भी केरल राज्य से आने वाले स्वतंत्र उम्मीदवार ‘अरविंद नामपूथिरी’ ने चुनाव जीता। इसके अलावा स्वतंत्र उम्मीदवार ‘अर्जुन पटेल, विपिन सिंह ने अन्य विभागों से अपने एक मात्र प्रतिद्वंदी ABVP के खिलाफ़ भारी अंतर से जीत दर्ज की।

विकास न हुआ रीतिकालीन नायिका का ‘कंगना’ हो गया, जिसे वह नदिया किनारे कहीं गुमा आई है !

‘किसान मुक्ति संसद’ का ऐलान, हिम्मत है तो किसान से पहले अंबानी-अडानी-माल्या की कुर्की करके दिखाओ

तेजस्वी यादव का हमला: अगर BJP जीत रही है तो क्या नीतीश हारने के लिए गुजरात में चुनाव लड़ रहे हैं?

अब बिहार में भी ‘गंदी ड्यूटी’, का विरोध, शिक्षक बोले शौच करते लोगों की फोटो खींचना हमारा काम नहींं

योगी बोले, राहुल गांधी को पूजा में बैठना भी नहीं आता, लोग बोले आपको पूजा-पाठ के अलावा क्या आता है?

 

Related posts

Share
Share