You are here

हार्दिक: 23 साल के लड़के की गर्लफ्रेंड नहीं होगी तो क्या 50 साल के आदमी की होगी ? पढ़िए पूरा इंटरव्यू

अहमदाबाद/नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

सीडी कांड के माध्यम से हार्दिक पटेल का मान मर्दन करने के प्रयासो के बीच हार्दिक अपना अभियान जारी रखें हैं। गुजरात के पटेल बाहुल्य इलाकों में सभाएं आयोजित कर बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोला हुए हैं।

हार्दिक पटेल का इस मामले को पुलिस में ले जाने पर कहना है कि “बीजेपी-शासित राज्यों के सिस्टम पर मुझे कोई भरोसा नहीं। मैंने कई कानूनी मामलों का सामना किया है तो मुझे पता है कि वो कैसे काम करता हैं।”

सीडी सामने आने के बाद भी अपने बेफ्रिक अंदाज में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल घूम-घूमकर बीजेपी के लिए परेशानियां पैदा कर रहे हैं। इसी क्रम में हार्दिक भरूछ के सरभन गांव में एक सभा में पहुंचे थे। आसपास के 10 गांवों के लोग वहां जमा थे।

महिलाओं ने तिलक लगाकर हार्दिक का उनका स्वागत किया, इस दौरान हार्दिक पूरी तरह से सहज नजर आ रहे थे। उन्होंने करीब 33 मिनट लम्बा भाषण दिया और जनता से “हिटलरशाही बीजेपी” को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

भाषण के बाद हार्दिक ने इंडियन एक्सप्रेस को इंटरव्यू दिया। पेश है उसके चुनिंदा अंश-

क्या इन वीडियो से आपकी योजना को धक्का लगेगा?

आज शाम आपने जनता का मिल रहा समर्थन देखा, क्या आपको लगता है कि इन वीडियो से आंदोलन को नुकसान पहुंचेगा? कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा। ये बीजेपी की हताशा को जाहिर कर रहा है जो वो अपनी कमियों को छिपाने के लिए कर रही है।

वो मुझे नहीं तोड़ सकते। वो मुझे धमका नहीं सककते ना ही ब्लैकमेल कर सकते हैं। इसलिए उन्हें एक 23 साल के लड़के का चरित्रहनन करने के लिए वीडियो बनाना पड़ा।

सत्ता में बैठे लोग कह रहे हैं कि ये मेरा वीडियो है, मैं कह रहा हूं कि ये फर्जी है। तो क्या उन्होंने होटल के एक कमरे में मेरी मंगेतर के साथ मेरा स्टिंग ऑपरेशन किया होता तो मैं स्वीकार कर लेता। ये वीडियो मेरे जैसे दिखने वाले किसी और इंसान का है।

मैं वीडियो को विदेश में रहने वाले अपने समुदाय के कुछ लोगों के पास भेजा था जिन्होंने इसकी फोरेंसिक जांच करायी। वहां की रिपोर्ट के अनुसार ये वीडियो फर्जी है। (मोबाइल में एक रिपोर्ट दिखाते हैं।)

…और अगर थोड़ी देर के लिए मान लीजिए कि वीडियो में मैं ही था तो मैं पूछना चाहता हूं कि क्या 23 साल के लड़की की गर्लफ्रेंड नहीं हो सकती? अगर 23 साल के आदमी की गर्लफ्रेंड नहीं होगी तो क्या 50 साल के आदमी की होगी?

…अटल बिहारी वाजपेयी ने एक बार कहा था कि वो शादीशुदा नहीं हैं लेकिन वो संन्यासी भी नहीं हैं।…एक बीजेपी विधायक चलती बस में लड़की के ऊपर यौन हमला कर रहे थे लेकिन बीजेपी उस पर कुछ नहीं बोल रही…ये लड़ाई बीजेपी बनाम कांग्रेस की नहीं, बीजेपी बनाम हार्दिक है।

आप कानूनी कार्रवाई की योजना बना रहे हैं?

पुलिस उनकी है, सिस्टम उनका है। कानूनी कार्रवाई से मुझे क्या हासिल होगा? बीजेपी-शासित राज्यों में मुझे सिस्टम पर कोई भरोसा नहीं। मैं कई कानूनी मामलों का सामना किया है तो मुझे पता है कि वो कैसे काम करते हैं। राजनीति की भाषा में कहें तो आपको मोटी चमड़ी का होना पड़ता है और ऐसी नीची हरकत को बर्दाश्त करना सीखना पड़ता है।

चुनाव में आप अपनी क्या भूमिका देखते हैं? किंगमेकर की या उलट-पलट करने वाले की?

मैं किंगमेकर नहीं हूं। मैं तो बस जनता की आवाज हूं। मेरा एक एजेंडा है। ये एजेंडा उस जनता का है जो लंबे समय से अन्याय सहन करती रही है…ले लंबी लड़ाई है। मैं सांसद या विधायक नहीं बनना चाहता।

अभी तो चुनाव लड़ने की आपकी उम्र पूरी नहीं हुई है, दो साल बाद आप क्या करेंगे?

मैं भविष्य की योजना नहीं बनाता…मेरा भविष्य अनिश्चित है। जिन लोगों से मैं लड़ रहा हूं वो बुरे लोग हैं, वो मुझे कुछ भी कर सकते हैं…हर चीज का वक्त होता है। जब समय आएगा तो मैं इस पर विचार करूंगा।

पाटीदार आरक्षण पर कांग्रेस से आपकी चर्चा कहां तक पहुंची है?

हमने कांग्रेस का प्रस्ताव मान लिया है। वो आरक्षण पर संवैधानिक संभावनाओं की पड़ताल करेंगे लेकिन अभी इस पर अंतिम मुहर नहीं लगी है। उन्होंने हमारी बात मान ली है। मैं लोगों से कांग्रेस को वोट देने के लिए नहीं कह रहा लेकिन मैं निजी तौर पर उसे वोट दे सकता हूं और उसी तरह बहुत से और लोग दे सकते हैं।

आप राजद्रोह के मुकदमे में नौ महीने तक जेल में रहने के बाद बाहर आए हैं?

किसी बुद्धिमान ने कहा है कि जो हो रहा है उसका नियंता मैं नहीं हूं। न ही ये मेरे दुश्मनों का किया है। ये नियति का खेल है।

(साभार जनसत्ता) 

सो रही मोदी सरकार को जगाने देश भर से दिल्ली पहुंचीं महिला किसान, फसल के उचित मूल्य की मांग

BJP समर्थित मुफ्ती सरकार ने हत्‍या, आगजनी, दंगों के आरोपी को सौंप दी, जम्मू-कश्मीर खेल टीम की कमान

VIP कल्चर खत्म ? CM रमन सिंह की बहू के लिए खाली करा दिया सरकारी अस्पताल का पूरा फ्लोर

BJP नेता की मुस्लिम वोटर्स को धमकी, मेरी पत्नी को नहीं दिया वोट, तो सपा भी बचाने नहीं आएगी

झारखंड के बाद UP के ‘रामराज’ में भी बिना आधार नहीं मिला राशन, बीमार महिला की भूख से मौत

योगी सरकार का फरमान अब UP बोर्ड परीक्षा में भी आधार कार्ड अनिवार्य, नहीं लाने वालों की ‘नो एंट्री’

Related posts

Share
Share