You are here

हार्दिक के करीबी निखिल सवानी ने छोड़ी BJP, बोले पाटीदारों नेताओं को 1 करोड़ ऑफर कर रही है पार्टी

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (PAAS) छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए निखिल सवानी ने गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ दी है। सवानी ने सोमवार 23 अक्‍टूबर को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इस बात की जानकारी दी। सवानी व पाटीदार समुदाय के 150 सदस्‍य सितंबर में भाजपा में शामिल हुए थे।

सवानी हार्दिक पटेल के करीबी हैं और सूरत में PAAS के संयोजक थे। सवानी ने कहा कि ‘मैंने बीजेपी द्वारा नरेंद्र पटेल को एक करोड़ रुपये केन ऑफर की बात सुनी, मैं दुखी हूं। बीजेपी छोड़ रहा हूं।” पटेल ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने उन्हें वरुण पटेल के माध्यम से उसमें शामिल होने पर एक करोड़ रुपये देने का वादा किया था।

हालांकि वरुण पटेल ने इन आरोपों से इनकार किया है। गुजरात में 18 दिसंबर से पहले चुनाव होने हैं क्योंकि उस दिन गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधान सभा चुनाव के नतीजे आने की चुनाव आयोग पहले ही घोषणा कर चुका है।

सवानी ने कहा, ‘मैं नरेंद्र पटेल को बधाई देता हूं। वह एक छोटे परिवार से आते हैं, फिर भी उन्‍होंने एक करोड़ रुपये लेना मंजूर नहीं किया। ‘ सवानी ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है। उन्‍होंने कहा, ‘राहुल गांधी से अप्‍वॉइंटमेंट लूंगा। उनसे मिलकर अपना न‍जरिया सामने रखूंगा।’

सवानी ने कहा कि उन्‍हें बीजेपी में शामिल होने के लिए रुपयों की पेशकश नहीं की गई थी। उन्‍होंने कहा, ‘अब मैंने इस्‍तीफा दे दिया है क्‍योंकि वे सिर्फ लॉलीपॉप दे रहे हैं, कोई वादा नहीं पूरा कर रहे।’

झारखंड के रामराज में ‘भुखमरी’ से मरने वाली लड़की की मां की मदद की जगह मारा पीटा

गुजरात: BJP को जिन 3 युवा तुर्कों का है खौफ, राहुल गांधी ने तीनों की तरफ बढ़ाया दोस्ती का हाथ

मौर्य काल से लेकर ब्राह्मणराज की स्थापना तक, शत्रु की हत्या के जश्न में दीप जलाने का रिवाज है ?

राजस्थान के रामराज्य में नेताओं-अफसरों को FIR से बचाने की अनोखी तरकीब निकाली बीजेपी सरकार ने

गुजरात में BJP का प्लान B: भूख, बेरोजगारी, मंहगाई के जवाब देने के बदले पूरी राजनीति को धर्म से रंग दो

AU छात्र संघ: समाजवादी छात्रसभा की जीत सामाजिक न्याय की जीत है, 1 यादव, 1 पटेल, 1 दलित, 1 ठाकु

 

Related posts

Share
Share