You are here

गुजरात: राजकोट में दलित को गेट से बांधकर बेरहमी से पीट-पीटकर हत्या, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

गुजरात के ऊना में दलितों की पीट-पीटकर हत्या करने के बाद विरोधी की चिंगारी पूरे देश में फैली थी। अब पीएम मोदी के गृहराज्य से ही एक बार फिर एक खतरनाक वीडियो सामने आया है।

राजकोट के शापर इंडस्ट्रियल क्षेत्र में एक फैक्ट्री के बाहर कचरा बीन रहे दंपत्ति को बेरहमी से पीटा गया, जिसके बाद पति की मौत हो गयी और पत्नी गंभीर रूप से घायल है.

वीडियो में साफ दिख रहा है कि एक व्यक्ति को एक फैक्ट्री के बाहर फैक्ट्री मालिक और कर्मचारियों द्वारा बांधकर बुरी तरह से पीटा जा रहा है. जिसके बाद उसकी मौत हो गयी.

वड़गाम से विधायक जिग्नेश मेवाणी ने इस वीडियो को सोशल मीडिया पर साझा करते हुए लिखा है कि यह ऊना में दलितों पर हुए हमले से भी ज्यादा खतरनाक है. गुजरात दलितों के लिए सुरक्षित नहीं है. सरकार ने अपनी पिछली गलतियों से कुछ नहीं सीखा.

यह घटना रविवार की सुबह हुई. मरने वाले व्यक्ति का नाम मुकेश सावजी वनिया है, जो अपनी पत्नी के साथ कचरा बीनने का काम किया करता था.

पुलिस के अनुसार मुकेश अपनी पत्नी जया और एक अन्य महिला के साथ राददिया इंडस्ट्रीज के परिसर में कचरा बीन रहे थे, जब उन पर हमला किया गया.

पुलिस को दर्ज करवाई शिकायत के अनुसार जया ने बताया कि हमलावरों ने पहले दोनों महिलाओं को बेल्ट से मारा, जिसके बाद वे मदद के लिए भागी. इसके बाद इन लोगों ने मुकेश को फैक्ट्री के दरवाजे पर बांधकर बुरी तरह से पीटा.

जब तक महिलाएं और लोगों के साथ लौटीं, हमलावर मुकेश को पीटते रहे. इसके बाद मुकेश को राजकोट सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया.

एनडीटीवी के मुताबिक पुलिस ने फैक्ट्री मालिक समेत पांच लोगों को हिरासत में लिया है और उन पर हत्या और एससी/एसटी एक्ट का मामला दर्ज किया है.

मीडिया में आई खबरों के अनुसार मृतक के परिजन पोस्टमार्टम हाउस के सामने धरने पर बैठे हुए हैं.

इलाहाबाद: शिक्षा विभाग में कार्यरत रामचंद्र पटेल की हत्या, पुलिस और नेताओं के रवैये से परिवार में आक्रोश

क्लर्क की नौकरी करने वाले येदियुरप्पा ने की मालिक की बेटी से शादी और बन गए करोड़पति

खामोशी से बैठे पिछड़ों ! अगला नंबर मेरा या आपका हो सकता है, वे आंदोलनकारियों को कुचल रहे हैं

सैनिकों की शहादत पर राजनीति करने वाले PM के राज में, पैराशूट का कपड़ा भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं

 

 

Related posts

Share
Share