You are here

पराजय का असर: बगावती हुए योगी के मंत्री के सुर, बोले जो मुझे नजर अंदाज करेगा जमीन में दफना दूंगा

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

लगातार जीत और सत्ता की ताकत किसी भी पार्टी के भीतर के असंतोष और तानाशाही को दबा देती है। लेकिन जैसे ही असंतुष्ट तबके को तानाशाह के कमजोर होने का अहसास होता है वो तुरंत अपने तेवर दिखाना शुरू करता है।

अपने अंदर छुपे गुस्से को मौका देखकर बाहर निकालना ही राजनीति है। योगी सरकार के एक मंत्री ने भी मौका देखकर चौका मार दिया है। योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि लड़ाई अब आमने-सामने होने जा रही है।

मंत्री राजभर ने कहा ‘अब जो होगा आमने-सामने होगा। अगर गरीबों की जमीन को कुछ हुआ तो साथियों डरो नहीं और जाकर इन अधिकारियों को घेर लो। बहुत ड्रामा हो गया।’

सहयोगी पार्टी के नेता हैं राजभर- 

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर के सुर बगावती होते दिख रहे हैं। जहूराबाद निर्वाचन क्षेत्र से सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के विधायक राजभर इस वक्त योगी सरकार में पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री हैं, लेकिन अब उन्होंने सरकार के खिलाफ बगावत कर दी है।

राजभर ने हाल ही में एक जनसभा को संबोधित करते हुए योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। साथ ही समर्थन वापस लेने की तरफ भी इशारा किया। राजभर ने कहा, ‘ये सरकार सोच रही है कि ओम प्रकाश राजभर को दबा दिया जाएगा, अरे ओम प्रकाश को दबाओगे तो आग लग जाएगी।

ओम प्रकाश खिलवाड़ नहीं है। मेरे साथ पूरे गरीबों का साथ है, इन गरीबों का आशीर्वाद है। हम चार लोग जीत कर गए और सरकार बनी तो कुछ लोगों ने कहा कि पूर्वांचल में राजभर की सरकार बनी। पूर्वांचल में जो राजभर चाहेगा उसी की सरकार बनेगी।’

राजभर ने आगे कहा कि जो उन्हें नजरअंदाज करेगा, उसे जमीन में दफना दिया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘जो पूर्वांचल में ओम प्रकाश की ताकत को नजरअंदाज करेगा… उसे मैं जमीन में दफना दूंगा। ये ध्यान रखना।

मुझे धमकी देते हैं कि सरकार से निकाल दिया जाएगा, अरे धमकी देने वाले लोगों, तेरी औकात क्या है? अंगद की तरह पैर जमाया हूं, क्या औकात है तेरी जो मेरा पैर हटा दे।’

पिछड़े वर्ग का तीसरा बौद्धिक सम्मेलन लखनऊ में कल (18 मार्च), देश भर से जुटेंगे सामाजिक चिंतक

सरकार बनते ही खुद के एजेंडे से भटकी भाजपा, अब त्रिपुरा में बीफ पर बैन नहीं

उपचुनाव ने साबित कर दिया कि BJP की ‘चाणक्य नीति’ कोरी बकवास है, सिर्फ मीडिया मैनेजमेंट है

‘रक्तपात’ जैसा बयान देकर धार्मिक भावनाएं भड़काने वाले श्रीश्री रविशंकर पर कार्रवाई क्यों नहीं ?

Related posts

Share
Share