You are here

किसानों की कर्ज माफी का वादा किया था, 7 दिन में नहीं निभा पाया तो इस्तीफा दे दूंगा: कर्नाटक CM कुमारस्वामी

बेंगलुरु/नयी दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि कृषि ऋण माफी उनकी पहली प्राथमिकता है क्योंकि उन्होंने इसका वादा किया था. उन्होने कहा कि एक हफ्ते का समय दीजिए, अगर वह ऐसा करने में विफल रहते हैं, तो इस्तीफा दे देंगे.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा है कि उनकी पार्टी जेडीएस ने विधानसभा चुनावों के दौरान लोगों से पूर्ण जनादेश मांगा था, जो नहीं मिला. इस वजह से आज वह कांग्रेस की कृपा पर हैं.

रविवार को कुमारस्वामी ने कहा, ‘मेरी पार्टी ने अकेले सरकार नहीं बनाई है. मैंने लोगों से ऐसा जनादेश मांगा था कि मुझे उनके अलावा किसी और के दबाव में नहीं आने दे. लेकिन मैं आज कांग्रेस की कृपा पर हूं. मैं राज्य के साढ़े छह करोड़ लोगों के दबाव में नहीं हूं.’

रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा, ‘मैं कर्नाटक के 6.5 करोड़ लोगों का नहीं, बल्कि कांग्रेस का ऋणी हूं.’ हालांकि, उन्होंने लोगों से कहा कि उनकी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है, जिसका मतलब है कि मतदाताओं ने उन्हें और उनकी पार्टी को खारिज कर दिया है.

कुमारस्वामी ने कहा कि नेता के तौर पर उनकी भी कुछ मजबूरियां है. उन्होंने कहा कि इसके बावजूद कृषि ऋण माफी को लेकर उनका रुख़ बिल्कुल स्पष्ट है.

येदियुरप्पा पर निशाना- 

कुमारस्वामी ने कहा ‘मैं नहीं चाहता कि कोई भी किसान संगठन मेरे ऊपर दबाव बनाए. मैं जानता हूं चुनाव के दौरान इन संगठनों ने क्या किया. मैं सिर्फ सत्ता बचाए रखने के लिए कुर्सी पर नहीं बैठा रहूंगा.

येदियुरप्पा को किसानों को आत्महत्या के लिए उकसाना बंद करना चाहिए. उन्हें मानवीय बने रहना चाहिए. राजनीतिज्ञों के भड़काऊ भाषण से अगर किसी किसान ने आत्महत्या कर ली और उनके बच्चे हो जाएं तो इन सबका कौन ज़िम्मेदार होगा?’

कांग्रेस और जेडीएस के बीच किसी भी तरह का मतभेद खारिज करते हुए कुमारस्वामी ने कहा, ‘कांग्रेस ने वित्त मंत्रालय देने के लिए कहा था, मंत्रिमंडल के विस्तार में इस तरह की मांगें की जाती हैं. इस बारे में अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है. लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि किसी भी तरह का मतभेद है. मंत्रालयों को लेकर दोनों दलों के बीच कोई झगड़ा नहीं है.’

भाजपा समर्थित बंद का नहीं दिखा खास असर- 

कुमारस्वामी के पद संभालने के 24 घंटे के अंदर किसानों का ऋण माफ नहीं करने के विरोध में भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने राज्य बंद का आह्वान किया था.

किसानों की ऋण माफी का वादा पूरा करने में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की असफलता के विरोध में विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने किसानों और अन्य लोगों से बंद रखने का आह्वान किया था. हालांकि बंद कहीं भी प्रभावी नहीं रहा है.

पूरे राज्य से मिल रही सूचनाओं के अनुसार, कहीं भी जनजीवन प्रभावित नहीं हुआ है. स्कूल, कॉलेज और सार्वजनिक परिवहन सामान्य तरीके से काम कर रहे हैं.

ज़्यादातर किसानों और कन्नड़ समर्थक संस्थानों ने इस बंद का समर्थन नहीं किया है. उन्होंने इसके पीछे राजनीतिक मक़सद की आलोचना की है.

VIP कल्चर खात्मे की नौटंकी : BJP के मंत्री को भाषण के दौरान दी चिट तो असि. प्रोफेसर हो गए सस्पेंड

UPSC को भेजे गए प्रस्ताव में OBC/SC/ST के खिलाफ साजिश और ‘वफादार’ नौकरशाही तैयार करने की बू है

बस्ती: पुलिस व BJP सांसद से नाराज कुर्मी समाज उतरा सड़क पर, मार्च निकालकर DM कार्यालय का घेराव

गुजरात: राजकोट में दलित को गेट से बांधकर बेरहमी से पीट-पीटकर हत्या, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

इलाहाबाद: शिक्षा विभाग में कार्यरत रामचंद्र पटेल की हत्या, पुलिस और नेताओं के रवैये से परिवार में आक्रोश

 

Related posts

Share
Share