You are here

हिन्दु- मुस्लिम भाईयों, आपका मजहबी पिछड़ापन ही, आपका सबसे बड़ा दुश्मन है, पढ़िए कैसे ?

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

हिन्दुओं में फैले हुए अंधविश्वासो और कुरीतियों के बारे में सोशल मीडिया पर लिखो तो तुरंत कुछ लोग कमेंट बॉक्स में आकर ज्ञान देते हैं कि दम है तो मुसलमानों के बारे में लिख कर दिखाओ।

मेरे कुछ मुस्लिम दोस्त मुसलमानों की कुरीतियों के बारे में लिखते हैं तो उन्हें मुसलमान आकर इसी तरह से बुरा भला कहते हैं। देखिये आपको सिर्फ अपने समुदाय की कमियों और कुरीतियों पर ही बोलने का अधिकार है, दूसरे धर्म या समुदाय के खिलाफ लिखने बोलने का आपको कोई अधिकार नहीं है।

हालांकि आपको यही अच्छा लगता है कि आप दूसे धर्म की बुराई खोजें और उन्हें बुरा भला कहें, इससे आपका झूठा घमंड और ज्यादा फूल जाता है कि देखो मैं कितना महान हूँ। लेकिन आपको मानना होगा कि जब आपके समुदाय का ही कोई व्यक्ति आपके अपने समुदाय की कुरीतियों के बारे में लिखता-कहता है तो वह आपका सबसे बड़ा दोस्त है।

आपका अज्ञान ही आपका सबसे बड़ा दुश्मन है- 

आपके दुश्मन दूसरे धर्म के लोग नहीं है। आपका अज्ञान, गरीबी और पिछड़ापन आपका सबसे बड़ा दुश्मन है। अगर हिन्दू ख़त्म होंगे तो वह गरीबी अज्ञान और अंधविश्वास की वजह से ही खत्म होंगे। मुसलमान हिन्दुओं का कुछ नहीं बिगाड़ सकते मुसलमान डूबेंगे तो अपनी ज़हालत और गरीबी की वजह से, हिन्दू लोग मुसलमानों का कुछ नहीं बिगाड़ सकते।

डार्विन का सिद्धांत है कि दुनिया में वही प्रजातियां बचीं जिन्होनें बदलते वक्त के साथ अपने को ढाल लिया जो नहीं बदल पाए वह जीव मिट गये आप अगर आज के हिसाब से नहीं बदलते तो आप मिट जायेंगे।

संसार रोज़ बदल रहा है आपको बदलना ही पड़ेगा। लेकिन पोंगापंथियो की जिद है कि आप और भी ज़्यादा पीछे जाकर पुराना धर्म निकाल कर उस पर चलेंगे। आप पुराने ढंग का खाना, पुराने ढंग के कपड़े, पुराने रीति रिवाज़, औरतों की गुलामी और बच्चों को दबा कर रखने की जिद पर अड़े हुए हैं।

पार्टियां आपकी आस्था का दुरुपयोग करती हैं- 

जो पार्टी आपकी इन मूर्खता से भरी ज़िद का समर्थन करती है। आप उसे सत्ता दे देते हैं। इसलिए आपकी गरीबी, ज़हालत बीमारी मिट ही नहीं रही है। आपका मजहबी पिछड़ापन आपका दुश्मन बन चुका है।

आपको कुछ कहो तो आपको लगता है कि अगर आपने यह मान लिया कि आपके समुदाय में कोई कमजोरी है तो इससे आपका दुश्मन धर्म बाजी मार ले जाएगा। दरअसल आपकी सोच में भी हिन्दु-मुस्लिम भर दिया गया है।

हिन्दू सोचता है कि मैं क्यों मानूं कि मुझमें कोई कमी है। मुसलमान सोचता है कि मैं खुद को क्यों गलत मानूं ? इस डर के कारण दोनों अपनी बेवकूफियों की जी जान से हिफाजत कर रहे हैं।

बुंदेलखंड: बाबा साहेब की प्रतिमा पर डाली ‘जूतों की माला’, प्रदर्शनकारियों पर पुलिस का लाठीचार्ज

पाटीदारों और गुजरात की देन हैं सरदार पटेल’ जिन्होंने देश को संगठित कर आगे बढ़ाया- राहुल गांधी

अच्छे दिनः यूपी में प्राइमरी अध्यापक बनने की राह और भी कठिन, TET के बाद भी लिखित परीक्षा अनिवार्य

कमिश्वर की जांच में खुलासा, VC त्रिपाठी के गलत रवैये से भड़का छात्राओं का गुस्सा, दिल्ली तलब

देश की ही नहीं, विदेशी मीडिया को भी पता है कि अर्णब गोस्वामी का रिपब्लिक TV BJP का मुखपत्र है

पढ़िए ‘मोदी-शाह’ के काल में आपके भाजपाई होने के मायने …

योगी सरकार का डबल गेम, छोटे अधिकारियों पर कार्रवाई का मरहम, BHU के 1200 स्टूडेंट पर FIR दर्ज

 

Related posts

Share
Share