You are here

मानसिक गुलामी से उबर नहीं पा रहा हिंदू समाज, अब BHU में लगा दी ‘चोटीकटवा’ बाबा की मूर्ति

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

हम भले ही 21वीं सदी में सूचना, तकनीकी और विज्ञान के युग में जी रहे हों लेकिन हमारी मानसिक गुलामी आज भी बरकरार है। अंधविश्वास समाज को जकड़े हुए है, जिससे निजात पाना फिलहाल दूर की कौड़ी लगती है। अंधविश्वास और मानसिक दिवालियापन का ऐसा ही नज़ारा बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में देखने को मिला है।

इसी मानसिकता का फायदा उठाकर जुमलेबाज सरकारें सैकड़ों सालों हमारे ऊपर राज कर रही हैं। दरअसल, इन दिनों उत्तर भारत में चोटी काटने की घटनाओं की अफवाह फैली। कहीं-कहीं पर इस घटना को सही माना गया और महिलाओं ने अपनी चोटी बचाने के तरीके ईजाद किए।

पिछले महीने से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग जिलों में चली आ रही चोटी काटने की अफवाहों में वाराणसी के साथ ही पूर्वांचल के आसपास के जिले भी शामिल हो गए हैं। इस तथाकथित घटना से उबरने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ‘चोटी कटवा’ बाबा की मूर्ति स्थापित की गई है।

शिक्षा की राजधानी कही जाने वाले विश्व में मशहूर बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी कैम्पस के शॉपिंग मॉल ग्राउंड में पीपल के पेड़ के नीचे ‘चोटी कटवा’ बाबा को स्थापित कर दिया गया है।

BHU के शॉपिंग मॉल परिसर में पीपल के पेड़ के नीचे ‘चोटी कटवा’ बाबा की यह मूर्ति चोटी काटने की अफवाह के बाद स्थापित की गई। मूर्ति को लाल रंग से रंगा गया है। जबकि मूर्ति का मुंह खुला है। वहीं चोटी कटवा बाबा के हाथ गायब हैं। मूर्ति के सिर पर मटका टांगा गया है पेड़ में बोर्ड लगा दिया गया है जिस पर लिखा है चोटी कटवा बाबा।

ख़बरों के मुताबिक आस-पास के ग्राणीम दबे पांव विश्वविद्यालय परिसर में आकर ‘चोटी कटवा’ बाबा को माला फूल और पैसा भी चढ़ा रहे हैं।

Related posts

Share
Share