You are here

भ्रष्टाचार पर भी जुमलेबाजी: ईमानदार IAS अशोक खेमका को बीजेपीराज में मिला 50 वां ट्रांसफर

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

लगता है अन्य वादों की तरह ही बीजेपी के लिए भ्रष्टाचार भी एक जुमला है। हरियाणा में रॉबर्ट वाड्रा-डीएलएफ लैंड डील की म्यूटेशन को खारिज कर सुर्खियों में आए सीनियर आईएएस अफसर अशोक खेमका का बीजेपी राज में भी 50वीं बार ट्रांसफर कर दिया गया है।

हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार ने उन्हें विज्ञान और प्रौद्योगिकी से हटाकर अब सामाजिक न्याय और अधिकारिकता विभाग का प्रधान सचिव बना दिया है।

अशोक खेमका के साथ अन्य अधिकारियों का भी सरकार ने ट्रांसफर किया है। हरियाणा के ही आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी का 33 साल में करीब 68 बार तबादला हो चुका है। मनोहर सरकार अपने कार्यकाल में उनका 13 बार ट्रांसफर कर चुकी है।

साल 2016 में हरियाणा सरकार ने उनका एक महीने में तीन बार ट्रांसफर किया था। हरियाणा की ही केसनी आनंद अरोड़ा का अब तक 45 बार ट्रांसफर हुआ है।

अशोक खेमका के 26 साल के करियर में 50 बार ट्रांसफर हो चुका है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा से जुड़े जमीन सौदे में गड़बड़ियों की पोल अशोक खोमका ने ही खोली थी।

विभागों में भ्रष्टाचार की पोल खोलने के लिए मशहूर नियमों और दायरे में काम करने के कारण अशोक खेमका हमेशा ही सत्ता का साथ निभा नहीं पाते हैं।

 

Related posts

Share
Share