You are here

हमारा हिस्सा ब्राह्मण खा रहे हैं SC-ST-OBC या मुस्लिम नहीं- अन्तर्राष्ट्रीय वैश्य महासभा

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

पिछड़ों को मिलने वाले आरक्षण पर नजर जमाए हुए ब्राह्मणों को अपनी अपनी सामान्य कैटगरी से ही विरोध का सामना करना पड़ रहा है.
अब अंतर्राष्ट्रीय वैश्य महासभा के अध्यक्ष डीएन गुप्ता ने कहा है कि हम वैश्यों का हिस्सा ब्राह्मण खा रहे हैं, SC/ST, OBC या मुस्लिम नहीं.

दरअसल उ.प्र. में अखिलेश सरकार रहने के दौरान सवर्ण मीडिया ने इस बात को बड़े जोर से प्रचारित किया था कि ओबीसी के सारे पदों पर यादव बैठे जा रहे हैं और यादव ही ओबीसी का हिस्सा खाए जा रहे हैं. जबकि हकीकत है है कि ज्यादा हिस्सा कम हिस्सा की बात तो बाद में है पहले ओबीसी को उसका जायज हक ही नहीं मिल पा रहा है.

खैर वैश्य महासभा के इस रुख के बाद बाह्मण समाज के गुटों में खलबली मची है. उनको अब अहसास हो रहा है कि उनके एक क्षत्र सत्ता के सिंहासन को अब चुनौती मिलने लगी है.

पढ़िए क्या कहा वैश्य महासभा के अध्यक्ष ने-

हम वैश्यों का हिस्सा ब्राह्मण खा रहे हैं SC/ST या ओबीसी नहीं
———————-_———————-

वैश्य भाइयों हमारा दुश्मन SC ST OBC या मुसलमान नहीं है उनको तो 49.5 परसेंट आरक्षण मिल रहा है सामान्य को 50.5 परसेंट मिल रहा है। परंतु यह सामान्य को मिलने वाला आरक्षण अकेले ब्राह्मण ही खा जाते हैं। हमारा भला SC ST OBC के आरक्षण के विरोध से नहीं होगा। हमें तो 50.5 परसेंट में ही अलग हिस्सा दे दो। अगर इसके 5 हिस्से 10-10% के किए जाएं और एक हिस्सा वैश्यों को अलग दिया जाए तो हमारा बहुत भला हो जाएगा ब्राह्मण अकेले ही सामान्य के नाम पर सारा आरक्षण खा जाता है वह हर साक्षात्कार बोर्ड में ब्राह्मणों को ही सबसे ज्यादा नंबर देता है। सारी नियुक्तियां चाहे सुप्रीम कोर्ट हो हाईकोर्ट हो या राज्यपाल और वाइस चांसलर हमें तो 10 परसेंट अलग से ही आरक्षण चाहिए। हम ब्राह्मणवाद को चंदा दे हम ही सारा खर्च उठाये और हमारे लोगों को ब्राह्मण इंटरव्यू में कम नंबर देकर बाहर कर दें। जाति के अहंकार में रहने वाला समाज बिना आरक्षण के अपनी बहन बेटी को हिस्सा नहीं देता तो वैश्यों को क्या देगा।

डी एन गुप्ता
अध्यक्ष
अंतर्राष्ट्रीय वैश्य महासभा

outcastindia से साभार 

Related posts

Share
Share