You are here

जागृति हॉस्पिटल रेप केस में पुलिस के रवैये से लोगों का फूटा गुस्सा, दारोगा को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

कानपुर । नेशनल जनमत ब्यूरो।

कानपुर के बर्रा इलाके के न्यू जागृति हॉस्पिटल के आईसीयू में पेसेंट से रेप के मामले में पुलिस की कारस्तानी पर पब्लिक का आक्रोश फूट पड़ा। शनिवार सुबह अस्पताल के पास नियोजित तरीके से भीड़ जुटी। हॉस्पिटल को सील करने की मांग को लेकर सैकड़ों की संख्या में पुरुष, महिलाएं और बच्चों ने बर्रा हाईवे को जाम कर दिया।

इसे भी पढ़ें.जेएनयू, क्रिकेट में हिस्सेदारी की मांग, छात्रों ने कहा सवर्णों के बस का नहीं है मेहनत का खेल

हाथ में तख्तियां लेकर नारेबाजी से शुरू हुआ प्रदर्शन वाहनों में तोड़फोड़ तक पहुंच गया। इसके बाद बढ़ती भीड़ का आक्रोश देख की पुलिस प्रशासन की सांसे थम गई। भीड़ ने पहले पत्थरबाजी कर हॉस्पिटल को ‘छलनी’ कर दिया। इसके बाद भी भीड़ और उग्र होती गई।

इसे भी पढ़े…शर्मनाक, योगीराज में नहीं रुके बलात्कार,अब नशे का इंजेक्शन लगाकर वार्डबॉय ने किया बलात्कार

इसके बाद उग्र भीड़ पब्लिक को शांत करा रहे पुलिसकर्मियों पर कहर बनकर टूट पडी। पुलिसकर्मियों पर ईट- पत्थर, लात घूंसे, लाठी- डंडे बरसने लगे। पूरे बवाल में एक दर्जन से ज्यादा पुलिस कर्मी घायल हुए। जिस तरह से वहां हर शख्स के हाथ में पत्थर दिखा और जमीन पर मरणासन्न पड़े 58 साल के एक दरोगा को भीड़ पीट रही थी। उससे आंखों के सामने कश्मीर की एक तस्वीर भी तैरने लगी।

इसे भी पढे़ं...पटना नगर निगम चुनाव, ब्राह्मण भूमिहारों का सफाया, यादव , कुर्मी, कोयरी समेत OBC का दबदबा

हालांकि इस बवाल के बढ़ने के पीछे बड़ी वजह पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की माहौल को भांपने में चूक भी रही। बवाल बढ़ता देख डीआईजी सोनिया सिंह, डीएम सुरेंद्र सिंह ने मौके पर पहुंच कर मोर्चा संभाला। और लोगों को जागृति हॉस्पिटल के मैनेजमेंट के खिलाफ हर तरह की कार्यवाही का भरोसा दिलाकर शांत कराया.

Related posts

Share
Share