You are here

‘शवराज’ में बजरंगियों की गुंडागर्दी, प्रांतीय नेता कमलेश ठाकुर को जबरन थाने से छुड़ा ले गए

भोपाल/नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

पूरे देश में बीजेपी शासित राज्यों में भगवाधारी संगठनों की गुंडागर्दी बढ़ती ही जा रही है। मध्य प्रदेश की कानून व्यवस्था का आलम ये है कि राजधानी भोपाल में पुलिस  रात बजरंग दल के एक नेता और कुछ कार्यकर्ताओं के सामने बेबस नजर आई. पहले बजरंग दल  के नेता ने शराब पीकर उत्पात किया पुलिस ने पकड़ा तो  थाने पर बजरंगियों ने इकट्ठे होकर बवाल काटा।

बजरंग दल का प्रांतीय संयोजक है कमलेश ठाकुर- 

शराब पीकर पुलिस से मारपीट के आरोप में पकड़े गए बजरंग दल के नेता कमलेश ठाकुर को छुड़ाने के लिए समर्थकों ने पुलिस थाने में हंगामा कर दिया. जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश की तो उन्होंने सड़क पर चक्काजाम कर दिया. पुलिस की मौजूदगी में प्रदर्शनकारी आरोपी को ना सिर्फ छुड़ा कर ले गये, बल्कि खाकी को मुंह चिढ़ाते हुए उसे कंधे पर बैठाकर नारेबाजी करने लगे।

इसे भी पढ़ें-दलितों को गुलाम बनानेका नया पैंतरा, शंकराचार्य ब्राह्मण ही बनेगा लेकिन दलितों को बनाएंगे नागा साधु

नशे में धुत था कमलेश ठाकुर- 

थाने में कमलेश ठाकुर नशे की हालत में

इसे भी पढ़ें- पिछड़े वर्ग के सामाजिक चिंतकों, लेखकों, कवियों और पत्रकारों का महाजुटान गाजियाबाद में कल

पुलिस का आरोप है कि बजरंग दल का प्रांतीय संयोजक कमलेश ठाकुर नशे में धुत, भोपाल के 10 नंबर मार्केट में शराब पी रहा था, रात ज्यादा होने पर पुलिस ने इस पर ऐतराज जताया तो उसने पुलिसकर्मियों के साथ गाली गलौच शुरू कर दी. पुलिसकर्मियों ने उसे रोकने की कोशिश की तो उसने एक पुलिसकर्मी का कॉलर पकड़ लिया. इसके बाद पुलिस उसे अपने साथ हबीबगंज थाने लाई तो बजरंग दल के कार्यकर्ता भी वहां जुट गये.

40-50 की तादाद में आए बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के सामने पुलिस बेबस खड़ी रही, और कार्यकर्ता अपने नेता को कंधे पर बैठाकर चलते बने. नेता ने खुद को बेकसूर बताया और आरोप लगाने वाले को ही सामने लाने की बात कही.

इसे भी पढें- बीजेपी सांसद रूपा गांगुली का शर्मनाक बयान, अपनी बहन बेटियों तो बंगाल भेजो 15 दिन में ही रेप हो जाएगा

बजरंग दल के हंगामे को देखते हुए पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी हबीबगंज थाने पहुंच गए. मौके पर पहुंचे सीएसपी सीएम द्विवेदी ने पहले कहा थोड़ी गफलत हुई है, इसे देख रहे हैं अगर उनकी कोई आपराधिक भूमिका होगी तो मामला दर्ज किया जाएगा. देर रात आरोपी के खिलाफ सरकारी काम में रूकावट डालने, गाली गलौच और मारपीट करने का मामला दर्ज कर लिया गया है.

Related posts

Share
Share