You are here

चीफ जस्टिस बनने से रोकने के लिए जयंत पटेल का कोलेजियम ने किया ट्रांसफर, तो थमा दिया इस्तीफा

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

कर्नाटक हाईकोर्ट के जस्टिस जयंत एम पटेल ने रिटायरमेंट से 10 महीने पहले ही इस्तीफा दे दिया है। जस्टिस जयंत पटेल को सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया था जिसके बाद उन्होंने इस्तीफा देने का निर्णय लिया।

जयंत पटेल वही जज हैं जिन्होंने इशरत जहां मुठभेड़ की जांच सीबीआई से कराने का आदेश दिया था। जयंत पटेल के कार्यकाल के 10 महीने बाक़ी थे और माना जा रहा था कि उनको कर्नाटक हाइकोर्ट के कार्यकारी चीफ जस्टिस का पद मिल सकता है, लेकिन अचानक इलाहाबाद हाइकोर्ट में अपने तबादले की बात देख उन्होंने इस्तीफा दे दिया है।

एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए जस्टिस जयंत पटेल ने कहा, सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने उनसे पूछा कि “आपका ट्रांसफर इलाहाबाद क्यों न किया जाए। खबरों के मुताबिक जस्टिस पटेल ने इलाहाबाद जाने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, 10 महीने के लिए इलाहाबाद जाने में उनकी दिलचस्पी नहीं है।

रिपोर्ट के अनुसार जस्टिस पटेल कर्नाटक हाई कोर्ट में दूसरे सबसे वरिष्ठ जज थे। अनुमान लगाया जा रहा था कि कर्नाटक हाई कोर्ट के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश एसएन मुखर्जी के रिटायर होने के बाद वो मुख्य न्यायाधीश बनने वाले थे।

बताते चलें कर्नाटक हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस 9 अक्टूबर को रिटायर हो रहे हैं। वहीं सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने 15 सितंबर को जस्टिस पटेल के ट्रांसफर का फैसला लिया। खबरों के मुताबिक ऐसा माना जा रहा है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट में जाने पर जस्टिस पटेल कई अन्य जजों से कनिष्ठ हो जाते।

आपको बता दें, जस्टिस जयंत पटेल गुजरात उच्च न्यायालय के कार्यकारी चीफ जस्टिस रह चुके थे। उनके ट्रांसफर की खबर आने के बाद गुजरात बार एसोसिएशन ने उनके तबादले के विरोध में 27 सितंबर (बुधवार) को कामकाज बंद रखा है।

बेतुका बयान देने वाले चीफ प्रॉक्टर ओएन सिंह हटाए गए, VC बोले छुट्टी जाने से अच्छा है इस्तीफा दे दूं

कुलपति त्रिपाठी का एक और कारनामा, यौन उत्पीड़न के ‘दोषी’ को बना दिया विश्वविद्यालय अस्पताल का हेड

UP में असुरक्षित बेटियां: अब UGC ने भी माना छेड़छाड़ की घटनाओं में UP के विश्वविद्यालय अव्वल

बुंदेलखंड: बाबा साहेब की प्रतिमा पर डाली ‘जूतों की माला’, प्रदर्शनकारियों पर पुलिस का लाठीचार्ज

पाटीदारों और गुजरात की देन हैं सरदार पटेल’ जिन्होंने देश को संगठित कर आगे बढ़ाया- राहुल गांधी

अच्छे दिनः यूपी में प्राइमरी अध्यापक बनने की राह और भी कठिन, TET के बाद भी लिखित परीक्षा अनिवार्य

कमिश्वर की जांच में खुलासा, VC त्रिपाठी के गलत रवैये से भड़का छात्राओं का गुस्सा, दिल्ली तलब

Related posts

Share
Share