You are here

कृषक समाज ने खोजा आर्थिक क्रांति का रास्ता, दिल्ली से लखनऊ तक गूंजा ‘किसान बनेगा उद्योगपति’

नई दिल्ली/लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो

‘किसान बनेगा उद्योगपति’ की थीम के साथ भारत के कृषि समुदायों ने आर्थिक क्रांति का रास्ता निकाल लिया है। 2016 में इसी सोच के साथ दिल्ली में कृषि समुदाय को व्यापार की बारीकियां सिखाने और प्रोत्साहन देने के लिए फिक्की. डिक्की की तर्ज पर किक्की यानि कम्युनिटी चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (KICCI) का गठन किया गया।

किक्की एक ऐसा संगठन है जो कृषि व्यवस्था के आर्थिक कायाकल्प को दर्शाता है। कृषक समाज के बीच तक किक्की की इसी सोच को पहुंचाने के निर्णय के तहत हर प्रदेश की राजधानी में इसके विस्तार और कार्यक्रम की रूपरेखा बनाई गई।

इसी योजना के तहत 27 अगस्त को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में डॉ. राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के डॉ. अंबेडकर ऑडिटोरियम में केआईसीसीआई ( किक्की) का पहला वार्षिक दिवस आयोजित किया गया।

पूर्व प्रमुख सचिव स्वास्थ्य विभाग अरुण कुमार सिन्हा, पूर्व डीआईजी डीके चौधरी, जनाधार संगठन के प्रमुख पूर्व पीसीएस वीपी सिंह, पूर्व आईपीएस राजूबाबू सिंह, उद्यमी जयराम वर्मा आदि ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की औपचारिक शुरूआत की।

कई प्रदेशों से पहुंचे थे उद्यमी और किसान- 

लखनऊ में आयोजित पहले केआईसीसीआई के अधिवेशन में उत्तर प्रदेश, बिहार, तमिलनाडु, राजस्थान, और दिल्ली से आए करीब तीन सौ से अधिक सहभागियों ने शिरकत की। अधिवेशन में कुछ मेहमान और विजिटर अमेरिका से भी आए थे। इस अधिवेशन की खासियत यह थी कि इसमें देश के किसान और उद्यमी एक साथ आए।

अधिवेशन को सामाजिक सोच के अधिकारियों, डॉक्टर्स, इंजीनियर्स, अधिवक्ताओं और वैज्ञानिकों ने संबोधित किया। इस दौरान किक्की के भविष्य के रोडमैप पर चर्चा की गई। अधिवेशन में निर्धारित किया गया कि गांव स्तर पर वर्कशॉप आयोजित की जाएंगी और देश भर के युवाओं को सही दिशा देने के लिए अलग से संगोष्ठियां आयोजित होंगी।

एक साल के भीतर अखिल भारतीय स्तर पर चैंबर के विकास और बढ़ोतरी महत्व का एहसास किया गया। ये दर्शाता है कि भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में आर्थिक कृषि के आधार पर कायाकल्प करने की जरूरत है।

किक्की के उद्देश्य-

किसानो को कृषि की उन्नत तकनीक अपनाने, कृषि विविधता, जैविक कृषि, प्रोसेसिंग, विपणन चेन, भंडारण आदि की विस्तृत जानकारी देना।

कृषक समुदाय को बिजनेस मे आने के लिये प्रोत्साहित करने, बिजनेस का विस्तार करने, विभिन्न स्तर पर प्रशासनिक सहायता दिलाने के उद्देश्य से KICCI का गठन किया गया है.

KICCI का प्रयास है कि युवा पीढी अपने कैरियर का चुनाव करते समय बिजनेस को प्रथम विकल्प बनाये. बिजनेस मे अनंत अवसर है और सफलता/प्रगति की कोई सीमा नही है.

जिन युवक-युवतियों ने पढाई पूरी की है और service ढूंढ रहे हैं, उनको सलाह है कि अपना Business करने का प्लान बनाए , KICCI उनकी हर कदम पर सहायता करने को तैयार है.

 

Related posts

Share
Share