You are here

मोदी की PC पर लालू का हमला ‘ झूठा कौआ मंदिर पर जाकर ही क्यों न बैठ जाए कौआ ही कहलाएगा’

पटना।/नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

राजद अध्यक्ष लालू यादव के ऊपर भाजपा नेता सुशील मोदी द्वारा 12 एकड़ जमीन को लेकर लगाए गए आरोपों को लेकर मामला गर्माया हुआ है। लालू यादव और बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव द्वारा इस मामले में सबूत देने के बाद खुद सुशील मोदी खुलकर इस मामले में कुछ बोलने को तैयार नही हैं। अब तेजस्वी यादव और लालू यादव सोशल मीडिया के माध्यम से सुशील मोदी पर हमलावह हैं।

इसे भी पढ़ें…मोदी को हो गई छपास की बीमारी, इसलिए झूठ की उल्टियां करते घूम रहे हैं – तेजस्वी यादव

अगर मोदी ने माफी नहीं मांगी तो करेंगे मानहानि का दावा- 

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कहा है कि भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने देश की जनता को गुमराह किया है। अगर वो माफी नहीं मांगते हैं तो दो दिनों के भीतर वे सुशील मोदी के खिलाफ मुकदमा करेंगे। कुछ दिन पूर्व सुशील मोदी ने लालू यादव पर आरोप लगाया था कि 1992 में लालू यादव के 4 साल के बेटे और वर्तमान में बिहार के स्वास्ठ मंत्री तेज प्रताप यादव के नाम भाजपा सांसद रमा देवी ने 12 एकड़ जमीन दान स्वरूप दी थी।

इस मामले में लालू यादव का कहना है कि हम लोगों की सहमति के बिना ही रमादेवी ने उक्त जमीन का दान पत्र बनवा लिया था। जबकि दान पत्र रजिस्ट्री नियमावली नियम 4 के तहत दोनों पक्षों की रजामंदी जरूरी है। बाद में इस दानपत्र को खारिज करवा दिया गया था।

इसे भी पढ़ें…राजनीतिक गौभक्त- केरल में सहकारी संस्था बनाकर गौमांस बेच रहे हैं बीजेपी पदाधिकारी

लालू यादव का पक्ष- 

लालू यादव ने कहा कि 23 मार्च 1992 को रमा देवी ने बिना हम लोगों की सहमति के तेज प्रताप यादव नाबलिग के नाम से उक्त जमीन का दान पत्र बनवा लिया जबकि दान पत्र के मामले में रजिस्ट्री नियमावली के अनुसार प्रपत्र 4 पर दोनों पक्षों की रजामंदी जरूरी होती है जबकि इस दान पत्र में प्रपत्र 4 में दोनों पक्षों की सहमति हस्ताक्षर नहीं है।

रजिस्ट्री के कुछ दिनों के बाद रमा देवी के पति स्व. बृजबिहारी प्रसाद उक्त डीड को लेकर मेरे पास आये और बोले कि 13 एकड 12 डिसमिल जमीन तेज प्रताप यादव को दान की है। लालू ने कहा ”मैं उक्त दान पत्र को देखकर काफी नाराज हुआ और उन्हें निर्देश दिया कि अविलम्ब उक्त दस्तावेज का रद्दनामा करवाकर पत्र मुझे दिखाएं’ उन्होंने उक्त दान पत्र और रद्द होने से संबंधित दस्तावेज मीडिया को जारी करते हुए बताया कि 30 जून 1993 को उक्त रद्दनामा दस्तावेज बिहार मुजफ्फरपुर स्थित रजिस्ट्री आफिस में रजिस्टर्ड हुआ है।

इसे भी पढ़ें- नीतीश कुमार के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले पर सुप्रीम कोर्ट ने टोका 1 लाख का जुर्माना

लालू ने कहा कि उस जमीन में रमा देवी ने पोखर खुदवाया है. वो उसमें खेती करवाती हैं और वहां लीची के बगान लगे हुए हैं । राजद प्रमुख ने सुशील मोदी को भाजपा का ‘झूठा तोता’ की संज्ञा देते हुए कहा कि वे उनपर और उनके परिवार के सदस्यों के पास बेनामी संपत्ति का आरोप पिछले डेढ़ महीने से लगाकर और आज ऐसा दिल्ली में करके सरकार, देश और जनता को गुमराह करते आ रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा उनकी आगामी 27 अगस्त को आयोजित होने वाली रैली से घबराकर हताश है।

Related posts

Share
Share