You are here

लालू यादव की रैली में उमड़ी भीड़ से घबराई BJP, IT ने नोटिस भेजकर पूछा, कहां से आया रैली के लिए पैसा ?

नई दिल्ली/पटना। नेशनल जनमत ब्यूरो।

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की रैली में उमड़ी भीड़ को बीजेपी पचा नहीं पा रही है। पहले बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने लालू यादव द्वारा ट्विटर पर पोस्ट की गई फोटो को फर्जी बताया था। अब केन्द्र सरकार के स्वामित्व वाले इन्कम टैक्स विभाग ने लालू यादव को नोटिस देकर पूछा है कि इतनी बड़ी रैली के लिए पैसा कहां से आया है?

लालू प्रसाद यादव इस महारैली के बाद एक बार फिर से आयकर विभाग के रडार पर आ गए हैं। पटना के गांधी मैदान में आयोजित इस महारैली में विपक्ष के कई दिग्गज नेताओं ने शिरकत की थी।

संभवत: देश में ये पहला मौका होगा जब किसी राजनीतिक दल को रैली करने के लिए इनकम टैक्स विभाग ने नोटिस भेजा हो। आयकर विभाग ने आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को भेजे नोटिस में पूछा है कि, रविवार 27 अगस्त को “बीजेपी भगाओ देश बचाओ” रैली में खर्च किया गया पैसा कहां से आया है?

बीजेपी भगाओं देश बचाओ महारैली में लाखों लोग पहुंचे थे। बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी और उनके बेटे तेजस्वी यादव ने इस रैली में 30 लाख लोगों के शामिल होने का दावा किया था। आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने इस महारैली की एक तस्वीर अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की थी जिसे सुशील मोदी ने फर्जी करार दिया।

इस रैली मे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कांग्रेस से गुलाम नबी आजाद, समाजवादी पार्टी से यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, जदयू से बागी सांसद शरद यादव और अली अनवर सहित गैर एनडीए दलों के नेताओं ने रैली में भाग लिया था।

महारैली के दो दिन बाद मंगलवार को इनकम टैक्स विभाग की टीम ने बेनामी संपत्ति मामले में सूबे के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और उनकी मां राबड़ी देवी से पूछताछ की।

विभाग ने एक तारीख पर गायब रहने के बाद आखिरी चेतावनी के तौर पर उन्हें समन भेजा था, जिसमें तेजस्वी, राबड़ी और तेज प्रताप यादव को उपस्थित रहने को कहा गया था। लेकिन तबीयत खराब होने के कारण तेज प्रताप यादव पूछताछ के लिए नहीं पहुंच पाए थे।

Related posts

Share
Share