You are here

AIIMS ने लालू यादव को जबरन किया डिस्चार्ज, नाराज लालू बोले ये मोदी की राजनीति का घटिया स्तर

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

लालू प्रसाद जी गंभीर बीमारियों की चपेट में हैं। उनकी किडनी 60 प्रतिशत से अधिक क्षतिग्रस्त है। सुगर लेवल नियमित रूप से फल्कचुएट करता है। बीपी कई बार अनियंत्रित हो जाता है। पहले ही उनके हर्ट की सर्जरी हो रखी है। ख़ून में WBC (White Blood Cells) की मात्रा बढ़ी हुई है यानि इन्फ़ेक्शन है।

ऐसे में एक तरफ लालू प्रसाद को सलाह दी गयी है कि बेहतर रिकवरी के लिए उन्हें लगातार AIIMS जैसे उच्चस्तरीय अस्पताल के विशेषज्ञ डॉक्टरों की मेडिकल मानिटरिंग और निगरानी में रहना होगा लेकिन इस बीच देश के सत्ता शीर्ष के कुछ प्रभावशाली लोग एम्स के डाक्टरों पर दबाव बना रहे हैं कि उन्हें वहां से छुट्टी कर दी जाये.

ऐसे में उन्हें रांची जेल के अंदर ही इलाज करवाना पड़ेगा. लालूजी की तबियत ऐसी नहीं है कि उन्हें तेजप्रताप यादव की शादी में बुलाया जाये. इसलिए परिवार के लोग शादी समारोह से ज्यादा उनके स्वास्थ्य के प्रति सजग है और फैसला किया है कि उन्हें नियमित रूप से मेडिकल मानिटरिंग में रखा जाये।

ऐसी स्थिति में अगर लालू प्रसाद को रांची जेल में शिफ्ट किये जाने का फैसला लिया जाता है तो यह प्रतिशोध की राजनीति की परकाष्ठा होगी।

इतिहास में यह दर्ज होगा कि कैसे दक्षिणपंथी अधिनायकों ने अपने राजनीतिक विरोधी को मारने व स्वास्थ्य लाभ से वंचित करने के लिए क्या-क्या कुटिल चाले चली।

बिहार के पूर्व उममुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के राजनीतिक सलाहकार संजय यादव ने फेसबुक पर इस पोस्ट को डालकर जो आशंका जाहिर की थी वो कुछ ही घंटों बाद सच साबित हो गई।

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को सोमवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने फिट बताकर डिस्चार्ज कर दिया। यादव ने खुद को अभी भी बीमार बताते हुए इसे राजनीतिक प्रतिशोध करार दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि पीएम नरेंद्र मोदी के इशारे पर उन्हें डिस्चार्ज किया गया है।

एम्स प्रशासन को लिखी थी लालू यादव ने चिट्ठी- 

इससे पहले लालू यादव ने चिट्ठी लिखक एम्स प्रशासन से खुद को डिस्चार्ज न करने की गुजारिश की थी, लेकिन एम्स प्रशासन ने उन्हें फिट बताते हुए छुट्टी दे दी।

लालू ने एम्स प्रशासन को लिखी चिट्ठी में कई बीमारियों का हवाला दिया है। उन्होंने लिखा है कि उन्हें हृदयरोग, किडनी इंफेक्शन, रक्तचाप, शुगर, कमर दर्द, बार-बार चक्कर आना जैसी बीमारियां हैं।

उन्होंने पत्र में लिखा है कि चक्कर आने के कारण कई बार वह बाथरूम में भी गिरे हैं। उन्होंने साथ ही लिखा है कि अगर उन्हें एम्स से रांची मेडिकल कॉलेज भेजा जाता है और अगर इससे मेरे जीवन पर किसी भी प्रकार का कोई खतरा उत्पन्न होता है तो इसकी पूरी जवाबदेही आप सबों पर होगी।

एम्स में आज लालू से मिले थे राहुल गांधी- 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज लालू यादव से एम्स में मुलाकात करके और उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी। दोनों नेताओं की इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। 2019 की तैयारी में लगे राहुल को आरजेडी का लगातार समर्थन मिल रहा है।

गौरतलब है कि चारा घोटाले के कई मामलों में सजा काट रहे आरजेडी अध्यक्ष बीमारी के कारण दिल्ली के एम्स में इलाज करा रहे थे। बीमार होने से पहले वह रांची की जेल में बंद थे।

बीमार होने के बाद उन्हें रांची के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उसके बाद 1 महीने पहले उन्हें एम्स रिफर कर दिया गया था।

ये कैसा रामराज्य ! सिपाही भर्ती में भी भेदभाव, अभ्यर्थियों के सीने पर प्रशासन ने लिख दी उनकी जाति

सरकार ने डालमिया ग्रुप के हवाले किया दिल्ली का ‘लाल किला’ लोग बोले संसद को कब बेचेंगे मोदी जी

वाराणसी: आरक्षण विरोधी सरकार के खिलाफ आक्रोश, ‘आरक्षण बचाओ पदयात्रा’ में PM मोदी को चेतावनी

‘ब्रांड मोदी’ की जमीनी हकीकत, 3 साल में 17,000 अमीर भारतीयों ने विदेशी मुल्क की नागरिकता ले ली

MP: सामाजिक बदलाव की मिसाल बने IAS अनुराग चौधरी, बदल दिए 87 सरकारी स्कूलों के जातिसूचक नाम

 

Related posts

Share
Share