You are here

योगी की तानाशाही के खिलाफ लखनऊ में छात्र संगठनों का हल्ला बोल

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को काला झंडा दिखाने के आरोप में जेल भेजने के बाद छात्रो को निलंबित करने से आक्रोशित छात्रों ने शनिवार को योगी सरकार के खिलाफ दमन विरोधी मोर्चा की अगुवाई में लखनऊ जीपीओ पर फिर से जोरदार प्रदर्शन किया.

आपको बता दें कि लखनऊ  प्रशासन  द्वारा मुख्यमंत्री योगी का विरोध करने पर गंभीर आपराधिक धाराएं लगाकर छात्र-छात्राओं को  जेल भेज देने तथा लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा उनमे से 8 छात्रों का निलंबन करने के खिलाफ आज तमाम छात्र संगठन व स्वतंत्र नेता जी.पी.ओ. पर विरोध प्रदर्शन करने पहुँचे थे.

छात्रों की हुई पुलिस से झड़प, पुलिस ने किया लाठीचार्ज-

जीपीओ पर  योगी सरकार की पुलिस बड़ी संख्या में पहले से मौजूद थी, जिसने छात्रों के साथ धक्का-मुक्की तथा झड़प की और लाठी चार्ज भी किया. इसके बावजूद छात्रों ने इससे लड़ते हुए धरना प्रदर्शन किया.

छात्रों ने राष्ट्रपति को सौंपे ज्ञापन में इन मांगों का किया जिक्र

आंदोलनकारी छात्रों ने  राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सौंपा. जिसकी मुख्या मांगे थी-

  1. गिरफ्तार छात्रों को तत्काल रिहा करो.
  2. छात्रों पर लगे सभी फ़र्ज़ी मुक़दमे वापस लो.
  3. सभी छात्रों का विश्वविद्यालय से निलंबन वापस लो.

इस प्रदर्शन में SFI, AISA, NSUI, DYFI, RYA, AIPWA समेत स्वतंत्र छात्र नेता सुधांशु बाजपेयी, ज्योति राय, सुधाकर, अर्घवान आदि शामिल रहे. इसके उपरांत SFI कार्यालय कार्यालय पर सभी छात्र संगठनों व स्वतंत्र एक्टिविस्टों की संयुक्त बैठक कर आगे की रणनीति तैयार की गई.

जिसमें संयुक्त रूप से आगे की लड़ाई के लिए “दमन विरोधी मोर्चा” का गठन किया गया, जिसकी एक कोऑर्डिनेशन कमेटी का गठन किया गया जो कि समाज के सभी आंदोलनकारी संगठनों व स्वतंत्र एक्टिविस्टों से संपर्क कर छात्रो के समर्थन में व्यापक आंदोलन किया जाएगा.

Related posts

Share
Share