You are here

महाराष्ट्र: बकरीद पर कुर्बान हुए जानवरों की ‘तेरहवीं’ मना रहे बजरंगियों को पुलिस ने रोका

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

दक्षिणपंथी संगठनों के साथ सबसे बड़ी समस्या ये है कि वो हिन्दूवादी होने के नाम पर अतिवाद को प्रश्रय देते हैं। अपने धर्म की कुरीतियों को सुधारने के बजाए ऐसे आयोजनों और क्रियाकलापों में विश्वास रखते हैं जिससे समाज में नफरत घोली जा सके।

इन सभी भगवा संगठनों को राजनीति पार्टिया अपने-अपने एजेंडे के तहत समर्थन भी करती रहती हैं। ऐसे ही एक नफरत के बीज बोने वाले कार्यक्रम की तैयारी बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा महाराष्ट्र में की गई। लेकिन पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए इस कार्यक्रम को आयोजन से पहले ही रुकवा दिया।

बीते 2 सितंबर को देशभर में बकरीद मनाई गई। बकरीद में जानवरों की कुर्बानी देने का चलन है, इसलिए इस बार भी जानवरों की कुर्बानी दी गई। हालांकि त्योहार के नाम पर जानवरों की हत्या पर सवाल उठाए जा सकते हैं लेकिन उसका अपना तरीका है।

जानवरों की कर रहे थे तेरहवीं- 

खैर महाराष्ट्र में अब एक अजीब वाकया सामने आया है। यहां पर गौगुंडों ने बकरीद पर कुर्बानी किए गए जानवरों की तेरहवीं का आयोजन किया। जैसे ही पुलिस को आयोजन के बारे में भनक लगी वह तुरंत हरकत में आ गई।

घटना महाराष्ट्र के यवतमाल जिले के वसंद नगर इलाके की है। जहां गायों की मौत पर शोक जताने के लिए कथित गौरक्षक इकट्ठा हुए थे। कथित गौरक्षकों ने पितृ पक्ष को देखते हुए हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार मारे गये जानवरों की तेरहवीं करना चाहते थे।

वहीं महाराष्ट्र पुलिस ने गौरक्षकों द्वारा बकरीद पर बलि दिए गए जानवरों की “तेरहवीं” करने से रोक दिया। पुलिस के अनुसार बजरंग दल के स्थानीय कार्यकर्ता बकरीद में कुर्बानी किए गए जानवरों के लिए तेरहवीं मनाने वाले थे।

पुणे की कट्टरवादी संस्था समस्त हिंदू अगाड़ी के मिलिंद एकबोटे कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित थे। महाराष्ट्र पुलिस को व्हाट्सऐप पर “तेरहवीं” के निमंत्रण बांटे जाने की खबर मिली। पुलिस टीम ने आयोजकों से कार्यक्रम रोकने और वहां लगे टेंट वगैरह हटाने के लिए कहा।

शिवसेना नेता हैं मिलिंद- 

मिलिंट एकबोटे साल 2014 में शिवसेना के टिकट पर विधान सभा चुनाव लड़ चुके हैं। पुलिस ने आगे कहा, एक सितंबर को मिलिंद की बकरीद के लिए बकरे लेकर जा रहे कुछ लोगों से आपस में कहा सुनी हो गई थी।

मिलिंद ने इस मामले की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई लेकिन जब पुलिस मौके पर गई तो उसे वहां कुछ भी नहीं मिला। पुलिस ने मिलिंद को वार्निंग देकर छोड़ दिया।

आरक्षण का लाभ लेने वाले पिछड़े, क्षत्रिय बनकर, मनुवादियों के खिलाफ संघर्ष को कमजोर कर रहे हैं

ब्रिटेन में बोले नोबेल प्राप्त वैज्ञानिक, मांस की राजनीति छोड़ विज्ञान-तकनीक पर ध्यान दे मोदी सरकार

रामराज: अपहरण करके 5 दिन तक पटेल युवती से गैंगरेप,आरोपी ठाकुरों पर केस दर्ज नहीं कर रही UP पुलिस

पूर्व DGP का सनसनीखेज खुलासा, चारा घोटाले में लालू यादव को साजिशन फंसाया गया !

पटेल-दलित वोट खिसकने की आहट से डरी बीजेपी, OBC सम्मेलनों में फिर से बोलेगी ‘PM मोदी OBC हैं’

आप लिपटे रहिए धर्म की चासनी में, यहां देश में पहली बार जाति के नाम पर बन गया ‘ब्राह्मण आयोग’

संयुक्त राष्ट्र संघ ने गाय के नाम पर हिंसा और पत्रकारों की हत्या पर पीएम मोदी की आलोचना की

Related posts

Share
Share