You are here

रास चुनाव हारने के बाद भी मायावती बोलीं, अखिलेश में अनुभव की कमी, मैं ये गठबंधन टूटने नहीं दूंगी

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो। 

राज्यसभा चुनाव में बसपा प्रत्याशी की हार के बाद मायावती शनिवार (24 मार्च) को मीडिया के सामने आईं और एक परिपक्व नेता की तरह  समाजवादी पार्टी और बसपा का गठबंधन 2019 के लिए जारी रखने का बयान दिया।

बीजेपी को खिलाफ बोलते हुए मायावती ने कहा कि बीजेपी ने सपा-बसपा का साथ तोड़ने के लिए अपना नौवां उम्मीदवार खड़ा किया । बीजेपी ने राज्यसभा चुनाव में संसदीय मर्यादाओं की धज्जियां उड़ाई और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया।

मायावती ने कहा, “बीजेपी ने भय और खौफ का वातावरण पैदा किया, विधायकों को सीबीआई का डर दिखाया गया, जिसकी वजह से क्रॉस वोटिंग हुई।” मायावती ने सपा-बसपा के गठबंधन पर भविष्य के लिए भी मुहर लगाते हुए कहा कि बीजेपी एंड कंपनी की हरकतें एसपी-बीएसपी के साथ को तोड़ने में कामयाब नहीं होगी।

मायावती बोलीं, “कल के नतीजों से सपा-बसपा का गठबंधन जरा सा भी प्रभावित नहीं हुआ है, एक इंच भी नहीं।”

अखिलेश यादव को सलाह- 

मायावती ने इस दौरान उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव को सलाह भी दी। उन्होंने कहा, ” अखिलेश यादव कुंडा के गुंडे के जाल में फंस गये, अगर ऐसा ना होता तो शायद हम यह सीट बचा लेते, मैं उसकी जगह होती तो भले मेरा उम्मीदवार हार जाता लेकिन उसके उम्मीदवार को हारने नहीं देती।

यह उसके अनुभव की कमी है लेकिन मैं उससे अनुभवी हूँ इसलिए इस गठबन्धन को नहीं टूटने दूंगी।” मायावती ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि अखिलेश यादव धीरे-धीरे सियासत का तजुर्बा सीख जाएंगे।

बता दें कि मीडिया में चर्चा है कि राजा भैया और उनके समर्थक निर्दलीय विधायक विनोद सरोज ने बीजेपी को वोट दिया है। हालांकि राजा भैया ने शुक्रवार को खुद कहा था कि वह अखिलेश के साथ हैं और उनके उम्मीदवार को वोट देंगे।

अखिलेश यादव ने हटाया थैंक्स का ट्विट- 

राजा भैया के इस बयान के बाद अखिलेश यादव ने भी उन्हें धन्यवाद देते हुए एक ट्वीट किया था। लेकिन सपा अध्यक्ष ने अब राजा भैया को शुक्रिया कहने वाला ट्वीट डिलीट कर लिया है। इस ट्वीट में राजा भैया भगवा कुर्ते के साथ अखिलेश यादव के साथ नजर आ रहे थे। अब ये ट्वीट अखिलेश यादव के हैंडल पर मौजूद नहीं है।

मायावती ने 1995 में हुये गेस्ट हाउस कांड में एसपी प्रमुख अखिलेश यादव को क्लीन चिट देते हुये कहा कि वह उस समय राजनीति में नही थे । भाजपा गेस्ट हाउस कांड के बहाने हमारे और अखिलेश के बीच दरार पैदा करना चाहती है लेकिन ऐसा नहीं होगा ।

उन्होंने आरोप लगाया कि गेस्ट हाउस कांड के समय जो पुलिस अधिकारी राजधानी में तैनात था उसे भारतीय जनता पार्टी ने वर्तमान में प्रदेश पुलिस का मुखिया डीजीपी बना दिया है ।

अवैध उगाही और भ्रष्टाचार के दोषी, जालौन के डाइट प्राचार्य एमपी सिंह पर कार्रवाई आखिर कब ?

अब बिजली विभाग में निजीकरण करके आरक्षण खात्मे की ओर बढ़ी योगी सरकार, कर्मचारी आंदोलनरत

मोदी सरकार का आरक्षण विरोधी नया फरमान OBC-SC को वि.वि. में शिक्षक बनने से रोकने की साजिश है !

अब BJP के सहयोगी अपना दल (एस) की CM से डिमांड, हर जिले में चाहिए OBC-SC वर्ग का DM या SP

उपचुनाव ने साबित कर दिया कि BJP की ‘चाणक्य नीति’ कोरी बकवास है, सिर्फ मीडिया मैनेजमेंट है

 

Related posts

Share
Share