You are here

जब लालू यादव ने मायावती से कहा “मैं तभी रैली में आऊंगा जब आयोजक आप होंगी”

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

उ.प्र. की राजनीति में बड़े बदलाव की आहट शुक्रवार को देखने को मिली जब सोनिया गांधी के बुलावे पर मायावती और अखिलेश एक साथ विपक्षी दलों की मीटिंग में एकजुट हुए. मीटिंग के केन्द्र में लालू प्रसाद यादव ही रहे. लालू ने मायावती से लेकर शरद पवार को अपने राज्यों में रैली करके विपक्ष को एकजुट करने की सलाह दी. लालू की पहल के बाद ऐसे संकेत भी मिले की उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश जल्द ही एक संयुक्त रैली करेंगे.

इसे भी पढ़ें- देश की राजनीति में बड़े बदलाव के संकेत, दिल्ली में एकजुट हुए मायावती अखिलेश

भोज में आरजेडी अध्यक्ष एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने कहा कि मोदी सरकार हर मोर्चे पर नाकाम रही है.‘‘इसकी (मोदी सरकार की) एकमात्र उपलब्धि यही है कि आजादी के बाद पहली बार इसने कश्मीर में पाकिस्तान का झंडा फहराने दिया है।’’

लालू ने माया-अखिलेश से कहा आप लोग मिलकर रैली करो-

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने इस बात पर भी जोर दिया कि विपक्ष की एकता के लिए एक रैली लखनऊ में होनी चाहिए. जिसमें सपा और बसपा दोंनों हिस्सा लें. लालू यादव ने बसपा अध्यक्ष मायावती से कहा कि वह तभी इस रैली में हिस्सा लेंगे जब मायावती इसका आयोजन कराएंगी. इसके बाद वह अखिलेश यादव की ओर घूमे और कहा, “अखिलेश बाबू, आपको भी आना होगा।” यह सुन यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश भी मुस्कुरा पड़े.

ये भी पढ़ें-सहारनपुर हिंसा में दलितों के साथ मुस्लिम-यादव वकील, सुप्रीम कोर्ट में डाली याचिका

बीजेपी के खिलाफ एकजुट हुए 17 विपक्षी दल-

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को सामुहिक भोज का आयोजन किया था. जिसमें 17 विपक्षी दलों के नेताओं ने भाग लिया. बैठक के दौरान राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने सलाह ही कि सभी विपक्षी पार्टियों को विभिन्न राज्यों में संयुक्त रैली निकालनी चाहिए. उन्होंने कहा कि लेफ्ट को केरल और शरद पवार को मुंबई में इसका आयोजन कराना चाहिए. उन्होंने कहा कि वह खुद अगले महीने बिहार में एक रैली का आयोजन करेंगे.

ये भी पढ़ें- आखिर मुकेश अंबानी क्यों तोड़ना चाहते हैं बिहार में लालू-नीतीश गठबंधन !

कौन-कौन हुआ शामिल-

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की पहल पर 17 राजनीतिक दलों के 31 नेता राजनीतिक नेता दावत का हिस्सा बने. इन नेताओं में मनमोहन सिंह लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, अहमद पटेल, ए.के.एंटनी, गुलाम नवी आजाद के अलाबा सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बसपा अध्यक्ष मायावती, राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ,जदयू नेता शरद यादव, डीएमके से कनिमोझी, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, झारखंड मुक्ति मोर्चा से सीबू सोरेन, सीपीआई से डी राजा, सीपीएम से सीताराम येचुरी, तृणमूल कांग्रेस से ममता वनर्जी, नेशनल कांफ्रेंस से उमर अबदुल्ला समेत कई अन्य दलों के नेता भी शामिल हुए.

इसे भी पढ़ें- शादी के कार्ड पर यादव जी का सामाजिक न्याय, सोशल मीडिया में हुआ वायरल

Related posts

Share
Share