You are here

चौंकाने वाला सच, MBBS, MD नहीं सिर्फ PHD डिग्री वालों को ही है ‘डॉक्टर’ लिखने का हक

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

एमबीबीएस हों या एमडी-एमस,आयुर्वेद हों या होम्योपैथी डिग्री वाले इन सभी लोगों को अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाने की अनुमति नहीं है. यह जानकारी आयुष मंत्रालय के खुलासे में हुई है. सिर्फ पीएचडी डिग्री धारी लोग ही अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा सकते हैं.

एक राष्ट्रीय समाचार पत्र द्वारा डाली गई आईटीआई के जवाब में ये चौंकाने वाला सच सामने आया है.आरटीआई के अनुसार सभी मेडिकल कॉलेजों के छात्र मेडिकल डिग्री मिलने से पहले ही अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाना शुरु कर देते हैं जबकि ऐसा कहीं भी नहीं कहा गया है कि ये डिग्रीधारी अपने नाम के पहले डॉक्टर लगा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- जन्मजात श्रेष्ठता का दम तोड़ती है देश के सफल कोचिंग संस्थान के फाउंडर की सफलता की कहानी

सिर्फ पीएचडी वालों को ही डॉक्टर लिखने का अधिकार-

खबर के अनुसार आयुष विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ. केएल तिवारी कहते हैं कि केवल पीएचडी डिग्रीधारी ही अपने नाम के पहले डॉक्टर लगा सकते हैं. उनका साफ कहना है कि एमबीबीएस, एमडी/एमएस, आयुर्वेद, होम्योपैथी के छात्रों को उनके नाम के आगे डॉक्टर लिखी हुई डिग्री नहीं दी जाती. नियमों की बात करें तो उनमें भी कहीं पर यह बात इस बात का जिक्र नहीं हैै कि ये डिग्रीधारी अपने नाम के पहले डॉक्टर लगा सकते हैं.

आईएमए का कहना है कि ये चलन बन चुका है- 

आईएमए की रायपुर इकाई के अध्यक्ष डॉक्टर महेश सिन्हा कहते हैं कि यह केवल एक चलन बन चुका है कि ये डिग्रीधारी अपने नाम के पहले डॉक्टर लगाने लगे हैं. वहीं मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया, डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया और सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन के नियमों में भी इस बात का कहीं जिक्र नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें- जानिए RSS की उपज शिवकुमार शर्मा को क्यों किसानों का मसीहा बनाने पर तुली है मीडिया

सालों से मुद्दा बना है ये- 

इससे साफ जाहिर होता है कि सभी डिग्रीधारी नियम के बिना ही नाम के पहले डॉक्टर लिख रहे हैं. यह मामला सालों से बहस का मुद्दा बना हुआ है लेकिन अभीतक इसपर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है.  वहीं गांव और कस्बों की बात करें तो कोई भी अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा लेता और लोग उसके पास अपना इलाज करवाने जाने लगते हैं.

इसे भी पढ़ें- स्टेशन बेचने के बाद आरक्षण खात्मे की ओर प्रभु का अगला कदम, खत्म होंगे 10 हजार पद

डॉक्टर्स की सलाह नाम के आगे डॉ. ना लिखकर नाम के बाद डिग्री लिखें- 

उत्तर प्रदेश के आई सर्जन डॉ. लवलेश सिंह कहते हैं कि गांव-कस्बों में झोलाछापों की भरमार है. लोग इन झोलाछाप डॉक्टरों के पास जाने से पहले यह जानने की कोशिश भी नहीं करते हैं कि उसके पास मेडिसिन की डिग्री है भी या नहीं. इस तरह के झोलाछाप मरीजों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं लेकिन इस मुद्दे पर किसी का ध्यान ही नहीं जाता है. इसलिए मेरी सलाह ये है कि लवलेश सिंह नाम लिखने के बाद अपनी डिग्री जरूर लिखें ताकि आदमी को पता रहे कि मैं जिसके पास जा रहा हूं वो किस डिग्री का डॉक्टर है.

साभार– http://naidunia.jagran.com/chhattisgarh/raipur-ayush-does-not-write-doctor-mbbs-md-degree-holderh-1196184

 

Related posts

Share
Share