You are here

लखनऊ: 2019 की तैयारी में जुटी कांग्रेस, पिछड़ों को जोड़ने की कवायद तेज, भागीदारी का दिया भरोसा

नई दिल्ली/लखनऊ. नेशनल जनमत ब्यूरो। 

पीएम मोदी के ओबीसी कार्ड को देखते हुए कांग्रेस ने मिशन 2019 तैयारी के लिए पिछड़ो को पार्टी से जोड़ने की कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए वकायदा पार्टी के वरिष्ठ नेता पिछड़ों को संगठन और सत्ता में भागीदारी देने का आश्वासन भी दे रहे हैं।

इसी मिशन को धार देने के लिए कांग्रेस ने हालिया 4 फरवरी को लखनऊ के प्रदेश मुख्यालय पर पिछड़े समाज की प्रदेश स्तरीय मीटिंग आयोजित की। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने पिछड़ा वर्ग के नेताओं को संगठन में भागीदारी बढ़ाने का आश्वासन भी दिया।

सांसद व प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि कांग्रेस में पिछड़े वर्ग की हिस्सेदारी और ज्यादा करने का का फैसला लिया गया है। इसके लिए सभी नेता अपने अपने क्षेत्रों में पिछड़ों व अति पिछड़ों के साथ संवाद संपर्क बढ़ाकर देश में फैले नफरत के माहौल के प्रति उन्हे जागरूक करें।

उन्होंने कहा कि 2019 के चुनाव में पिछड़ा वर्ग निर्णायक भूमिका में होगा। इसलिए उसको अपने मत को प्रयोग बहुत सोच समझकर करना होगा।

राजबब्बर ने कहा कि अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर कांग्रेस के कार्यकर्ता पिछड़े वर्ग के लिए कांग्रेस द्वारा कराए कार्यों को गिनाएं। इसके साथ ही जिला व शहर संगठन में बूथ स्तर तक पिछड़े वर्ग को अनुपात के हिसाब से जिम्मेदारी देने की बात भी कही।

4 फरवरी को ही सरदार पटेल ने RSS को बैन किया था- 

NSUI के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सचान के संयोजन में आयोजित बैठक में वक्ताओं ने पिछड़ों व अति पिछड़ों के राजनीतिक हालात पर चर्चा करते हुए भाजपा व अन्य दलों से भंग होते मोह का दावा किया। वक्ताओं में इस बात को लेकर भी नाराजगी थी कि सरदार पटेल जैसे नेताओं को भी भाजपा अपना साबित करने पर तुली है।

राहुल सचान ने कहा 4 फरवरी को जिस तरह सरदार पटेल ने गांधी की हत्या करने वाले संगठन आरएसएस को प्रतिबंधित किया था वैसे ही आज के दिन उनके अनुयायी शपथ लेते है कि उत्तर प्रदेश से भाजपा को आने वाले चुनावों में बैन करेंगे।

पूर्व सांसद राजाराम पाल ने कहा कि प्रदेश में पिछड़ा वर्ग खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहा है। मेहनतकश वर्ग के किसानों को सरकार से आश्वासन के नाम पर सिर्फ धोखा मिला है।

कांग्रेस के प्रदेश संगठन मंत्री तरुण पटेल ने कहा कि अब पिछड़ा समाज कांग्रेस की ओर ही देख रहा है। पिछड़ों को ये बात समझ में आ गई है कि बीजेपी के लोगों ने ओबीसी को झुनझुना थमाकर भ्रमजाल में फंसाकर उनका वोट ले लिया है। अब वो इस भ्रमजाल से उबरना चाहते हैं।

कानपुर देहात के जिलाध्यक्ष नीतम सचान ने सचिवालय की सहायक समीक्षा अधिकारी समेत अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं का उदाहरण देते हुए कहा कि वर्तमान केन्द्र सरकार धीरे-धीरे ओबीसी आरक्षण खत्म करती जा रही है। पिछड़े अगर समय रहते नहीं जागे तो उनका आरक्षण खत्म कर दिया जाएगा।

इस दौरान संयोजन की जिम्मेदारी संभाल रहे प्रदेश महासचिव चौधरी सत्यवीर सिंह व राहुल सचान ने पूरे प्रदेश से आए पिछड़े वर्ग के कार्यकर्ताओं को धन्यवाद ज्ञापित किया।

प्रदेश उपाध्यक्ष छोटेलाल चौरसिया, पूर्व आईएएस अनीस अंसारी, राहुल राय, पुरुषोत्तम वर्मा, राजकुमार कश्यप, विशाल, अनूप पटेल, अतहर अलीम, गजेंद्र सिंह, मुरली मनोहर, प्रीतम लोधी, नीरज प्रजापति, मुन्नू मौर्या, राजेन्द्र निषाद,राजेश पाल, राजकुमार कश्यप, सुल्तान खारी समेत पूरे प्रदेश से आए सैकड़ो लोग उपस्थित रहे।

Related posts

Share
Share