You are here

परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह दूसरी बार बने MLC, निर्वाचन प्रमाण पत्र जारी, 2021 तक रहेगा कार्यकाल

 नई दिल्ली। नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत ब्यूरो) 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा, केशव प्रसाद मौर्य और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह का विधानपरिषद के लिए भी निर्विरोध चुना जाना तय हो चुका था। जिस पर आज आधिकारिक रूप से निर्वाचन आयोग ने मोहर लगा दी है।

इन चारों नेताओं की सीट से दूसरी किसी पार्टी के प्रत्याशी ने नामांकन नहीं किया था. सीएम योगी, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा, केशव प्रसाद मौर्या और तेजतर्रार व ईमानदार नेता के रूप में पहचान बना चुके स्वतंत्र देव सिंह भले ही निर्विरोध एमएलसी बन चुके थे लेकिन अभी इसकी अधिकारिक घोषणा होना बाकी था।

शुक्रवार(आज) निर्वाचन आयोग ने औपचारिक तौर पर चारों को निर्वाचन प्रमाण पत्र जारी करते हुए इनके विधानपरिषद में चुने जाने की घोषणा कर दी।

सपा-बसपा के एमएलसी के इस्तीफे से खाली हुई थी सीट- 

जिन पांच सीटों के एमएलसी उप चुनाव हुए थे उनमें समाजवादी पार्टी के 4 और बहुजन समाजवादी पार्टी के 1 एमएलसी ने इस्तीफा दिया था।

कब तक रहेगा कार्यकाल- 

सपा एमएलसी यशवंत सिंह की सीट पर सीएम योगी का नामांकन हुआ था. बुक्कल नवाब की सीट पर केशव मौर्य का नामांकन हुआ था. इन दोनों एमएलसी का कार्यकाल 2022 में समाप्त हो रहा था.

जबकि अशोक वाजपेयी की सीट पर दिनेश शर्मा और सरोजनी अग्रवाल की सीट पर स्वतंत्र देव सिंह ने नामांकन किया है. अशोक और सरोजनी का कार्यकाल 2021 तक का है.

जबकि पूर्व मंत्री जयवीर सिंह की सीट पर मोहसिन रजा ने भी नामांकन किया है. जयवीर सिंह का कार्यकाल अप्रैल 2018 में समाप्त होगा.

दूसरी बार विधान परिषद पहुंचे स्वतंत्रदेव सिंह- 

परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह इससे पहले 2004 में विधान परिषद के सदस्य चुने गए थे। उसी साल बीजेपी ने उनको प्रदेश महामंत्री की जिम्मेदारी सौंपी थी। इस बार मंत्री बनने के बाद उनको दोबारा विधानपरिषद में भेजा गया है।

राजनीतिक सफर- 

1988-89 -अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ए.बी.वी.पी.) में संगठन मन्त्री

1991- भाजपा कानपुर के युवा शाखा के युवा मोर्चा प्रभारी

1994- भारतीय जनता पार्टी (बी0जे0पी0) के बुन्देलखण्ड के युवा मोर्चा शाखा के प्रभारी बने।

1996- युवा मोर्चा के महामन्त्री नियुक्त किए गए।

1998- भाजपा युवा मोर्चा का महामन्त्री बनाया गया।

2001- भाजपा के युवा मोर्चा के प्रेसीडेण्ट भी बने।

2004- विधान परिषद के सदस्य चुने गये तथा इसी वर्ष भारतीय जनता पार्टी उ0प्र0 के प्रदेश महामन्त्री भी बनाये गये। इ

2004 से वर्ष 2014- दो बार महामन्त्री

2010- प्रदेश उपाध्यक्ष

2012- से अब तक प्रदेश महामन्त्री।

2017– बीजेपी सरकार में परिवहन राज्यमंत्री का स्वतंत्र प्रभार

इसे भी पढ़ें-

 परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह का बहनों को तोहफा, रक्षाबंधन पर रोडवेज की AC बसोंं में मुफ्त सफर

नेशनल जनमत के संपादक की शिकायत पर मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह का एक्शन, अनिल मिश्रा समेत 3 सस्पेंड

Related posts

Share
Share