You are here

विश्व की बड़ी बिजनेस पत्रिका का दावा, चापलूसी भरी ‘व्यक्तित्व पूजा’ का केन्द्र बन चुके हैं मोदी

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

कभी अन्तर्राष्ट्रीय मीडिया में छाए रहने वाले पीएम मोदी आज अपनी देश को बर्बाद करने वाली आर्थिक नीतियों के चलते देशी-विदेशी दोनो तरह की मीडिया के निशाने पर हैं। अंतरराष्ट्रीय कारोबारी पत्रिका दी इकोनॉमिस्ट ने अपने ताजा अंक में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कवर स्टोरी प्रकाशित की है। पत्रिका ने पीएम मोदी के कामकाज की आलोचनात्मक समीक्षा करते हुए लिखा है कि,’ चापलूसी भरी व्यक्तित्व पूजा का केंद्र बन गए हैं’। इसके साथ ही इस अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिका ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि “उनकी सरकार अपने तीन साल के कार्यकाल में उल्लेखनीय आर्थिक सुधार करने में विफल रही है।

इसे भी पढ़ें…नोटबंदी से बर्बाद किसानों पर पीएम मोदी का एक और कहर, अब खेती किसानी पर भी 28 फीसदी तक जीएसटी

पत्रिका के अनुसार नोटबंदी से काले धंधे वालों को कोई तकलीफ नहीं हुई

“भारतीय प्रधानमंत्री जितने बड़े सुधारवादी दिखते हैं उतने हैं नहीं” शीर्षक लेख में पत्रिका ने भारत में एक जुलाई से लागू हो रहे वस्तु एवं सेवा कर (जीेएसटी) की भी आलोचना की है। पत्रिका ने जीएसटी को बेवजह जटिल और लालफीताशाही वाला कानून बताया है। पत्रिका ने मोदी सरकार द्वारा किए गए नोटबंदी को भी विकास विरोधी और कारोबार विरोधी बताया है। पत्रिका के अनुसार नोटबंदी से वैध कारोबारियों को जितनी दिक्कत हुई उतनी काले धंधे वालों को तकलीफ नहीं हुई।

इसे भी पढ़ें…मोदीराज , OBC,SC,ST के साथ हो रहा अन्याय, अब मेडिकल कॉलेजों में 15 फीसदी सवर्णों को 50.5 फीसदी आरक्षण

पत्रिका के अनुसार कमजोर विपक्ष का फायदा नहीं उठा सके मोदी

पत्रिका ने लिखा है कि मोदी सरकार के पास पिछले कुछ दशकों का सबसे प्रचंड बहुमत है और विपक्ष पूरी तरह ओजहीन है फिर भी वो बड़े स्तर पर आर्थिक सुधार नहीं लागू कर सकी। पत्रिका ने पीएम नरेंद्र मोदी के सुधार लागू करने की काबिलयित पर भी सवाल उठाए हैं। पत्रिका के अनुसार मोदी सरकार वर्तमान वैश्विक अवसरों और लाभदायक घरेलू राजनीतिक परिस्थितियों का फायदा नहीं उठा सकी।

व्यवस्थित तरीके से काम करने में अच्छे नहीं है मोदी

पत्रिका ने लिखा है, “उनकी कारोबार के लिए मित्रवत नेता की छवि मुख्यतः इस आधार पर बनी है कि वो मुश्किल में पड़ी संस्थाओं की मदद पुरजोर कोशिश करते हैं….किसी एक फैक्ट्री को जमीन दिलवा देना या कहीं बिजलीघर निर्माण में तेजी ला देना। लेकिन वो व्यवस्थित तरीके से काम करने में अच्छे नहीं हैं जिससे अर्थव्यवस्था को जड़ बनाने वाले मुश्किलों का हल निकाला जा सके…भारत को केवल बिजलीघर या विकास के लिए जमीन के टुकड़े भर नहीं चाहिए। उसे बिजली और जमीन के लिए सुचारू बाजार चाहिए, नकदी और श्रम क्षमता चाहिए।”

इसे भी पढ़ें…बीजेपी नेता की गुंडई पर सीओ बोलीं भाजपा के गुंडे हो , कहीं भी हिंदू-मुस्लिम दंगा करा सकते हो

पत्रिका ने एनडीटीवी पर सीबीआई के छापों को मोदी सरकार की दबंगई बताया

पत्रिका ने मोदी सरकार के कार्यकाल में सार्वजनिक क्षेत्र की बहसों का सिकुड़ते आकाश पर भी सवाल उठाया है। पत्रिका ने लिखा है कि “हिदू राष्ट्रवादी ठग” किसी को भी धमका देते हैं और भारत सरकार देश के सेकुलर परंपरा से कथित तौर पर दूर जा रही है। पत्रिका ने टीवी चैनल एनडीटीवी के प्रमोटरों प्रणय रॉय और राधिका रॉय के घर और दफ्तर पर जांच एजेंसी सीबीआई के छापे को मोदी सरकार की “दबंगई” बताया है।

Related posts

Share
Share