You are here

अमरीका में लगे ‘मोदी गो बैक’ के नारे लोगों ने कहा ‘भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं मोदी’

नई दिल्ली/वाशिंगटन डी.सी./ व्हाइट हाउस/ एजेंसी 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अमरीका यात्रा पर उनका अमरीका में रहने वाले भारतीय और स्वतंत्रता समानता और वंधुत्व जैसे मानवीय मूल्यों में यकीन रखने वाले अमरीकी लोगों ने भी विरोध किया. हैरत की बात है कि छोटी-छोटी बात पर पीएम मोदी को हीरो बनाने वाले भारत की नेशनल मीडिया ने इस खबर को छुआ तक नहीं.

इसे भी पढ़ें.25 सवाल जिनको सुनते ही RSS को सांप सूंघ जाता है, पढ़िए संघी क्यों घबराते हैं इन सवालों से

मुस्लिमों और दलितों के खिलाफ हो रही हिंसा को रोकने की मांग- 

पीएम मोदी को गुजरात नरसंहार के कारण, कई मानवाधिकार संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के दबाव मे अमरीका ने अपने यहां आने पर पाबंदी लगा दी थी. पर जैसे ही मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने अमरीका ने ये पाबंदी हटा ली. इस मामले में एक औऱ बात जानने लायक है कि गुजरात नरसंहार के विरोध में समय – समय पर पीएम मोदी के खिलाफ अमरीका में प्रदर्शन होते रहते हैं. इस बार भी पीएम मोदी जब अमरीका पहुंचे तो उनके खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने हाथों में तख्तियां लेकर और ‘ मोदी गो बैक ‘ के नारे लगाकर प्रदर्शन किया.

इसे भी पढ़ें…स्वंयभू राष्ट्रवादी zee news मालिक सुभाष चंद्रा के बेटे ने देश को लगा दिया 11 हजार करोड़ रूपए का चूना

मोदी भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं- 

एक प्रदर्शनकारी हाथ में तख्ती लिए था जिसमें लिखा था मोदी भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं. बाती प्रदर्शनकारियों की मांग थी मोदी भारत में हत्याएं रोको.  प्रदर्शनकारी भारत में गाय के नाम पर हो रही मुस्लिम समुदाय के खिलाफ हिंसा रोकने में नाकामी के चलते भी मोदी सरकार से खफा थे. इसके अलावा मोदी सरकार के राज में दलितों की प्रति बढ़ती हिंसा, रोहित वेमुला की संस्थानिक हत्या, ऊना आंदोलन, औऱ सहारनपुर जातीय हिंसा के विरोध में भी पीएम मोदी के खिलाफ नारेबादी की गई .

इसे भी पढ़ें…फकीर पीएम झारखंड के दौरे पर खा गए 44 लाख का खाना , 75 मिनट के दौरे पर 9 करोड़ रूपए खर्च

व्हाइट हाउस के नजदीक लगे ‘ मोदी गो बैक ‘ के नारे, मीडिया ने दबा दी खबर

जैसे ही पीएम मोदी का काफिला व्हाइट हाउस की तरफ बढ़ा, व्हाइट हाउस के पास एकत्रित लोगों ने हाथों में मोदी के विरोध में लिखे गए नारों वाली तख्तियां हवा में लहराईं औऱ मोदी गो बैक के नारे लगाए, लेकिन मोदी सरकार द्वारा गोद ली  गई ‘गोदी मीडिया’ ने इस खबर को पूरी तरह से दबा दिया.

इससे पहले अमेरिका पहुंचने पर प्रोटोक़ल को लेकर उठे थे सवाल- 

इसे भी पढ़ें- विश्व की सबसे पत्रिका का दावा, चापलूसी भरी व्यक्तिव पूजा का केन्द्र बन चुके हैं मोदी

वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने अपनी फेसबुक वॉल पर पीएम मोदी के हर अतिथि को रिसीव करने के लिए एयरपोर्ट पहुंचने पर कटाक्ष करते हुए लिखा था कि-

अमेरिकियों को तहज़ीब नहीं है। उनका राष्ट्रपति भारत आता है तो हमारा प्रधानमंत्री एयरपोर्ट पर फूल लेकर खड़ा रहता है कि प्लेन का दरवाज़ा खुलते ही उनका स्वागत किया जाए।

हमारे पीएम इतने भोले हैं कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री हो या अबू धाबी का राजकुमार, हर किसी को सीधे एयरपोर्ट के रनवे पर जाकर मिलते हैं। गले पड़ जाते हैं। जबकि दुनिया में यह काम विदेश मंत्रालय के उप मंत्री या कोई सचिव या अफ़सर करता है।

अमेरिकियों ने हमारी भलमनसाहत का यह जवाब दिया कि वाशिंगटन में पीएम मोदी का प्लेन उतरा तो स्वागत के लिए अमेरिका में भारत के राजदूत नवतेज सरना और भारत में अमेरिकी दूतावास की एक अफ़सर मैडम कार्लसन खड़ी थीं।

इवेंट मैनेजरों ने कुछ लोग खड़े किए थे मोदी-मोदी बोलने के लिए। तो इस तरह इज़्ज़त बच गई।

Related posts

Share
Share