You are here

विदेश में मुगल बादशाह की मजार पर फूल चढ़ाने पहुंचे PM, UP में मुगल इतिहास बदलने की तैयारी

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।  

पिछले हफ्ते म्यांमार दौरे पर गए पीएम मोदी रंगून स्थित अंतिम मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर की मजार पर फूल चढ़ाने पहुंचे थे। उसके कुछ ही दिन बाद बुधवार को यूपी के डिप्टी सीएम ने मुगल इतिहास बदलने की घोषणा कर दी।

बीजेपी शासित राजस्थान, महाराष्ट्र के बाद अब उत्तर प्रदेश में भी मुगलों के इतिहास का बदलने की घोषणा कर दी गई है। यूपी के डिप्टी सीएम ने पाठ्यक्रमों में मुगलों से संबंधित चैप्टर्स में व्यापक बदलाव की बात कही है। डिप्टी सीएम ने कहा कि मुगल हमारे पूर्वज नहीं बल्कि लुटेरे थे।

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और माध्यमिक शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने मुगल शासकों के प्रति अपना संघी एजेंडा आगे बढ़ाते हुए बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि मुगल शासक हमारे पूर्वज नहीं, बल्कि लुटेरे थे और अब यही इतिहास लिखा जाएगा।

उन्होंने बाबर और औरंगजेब की आलोचना करते हुए कहा कि ये दोनों लुटेरे थे। उपमुख्यमंत्री ने मुगल शासक शाहजहां को भी नहीं बख्शा उन्हे हाथ काटने वाला करार दिया। उन्होंने आगे कहा कि मंगल पांडे ने जब क्रांति की शुरुआत की तो बहादुर शाह जफर ने इसका समर्थन किया था, इसलिए हम उनका कोई विरोध नहीं करते।

उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा इस दौरान सफाई देने से भी नहीं चूके उन्होंने कहा, हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं. मैं पूजा करने के साथ मजार, गुरुद्वारे और गिरजाघर भी जाता हूं. आज के आधुनिकता के दौर में हम अपनी वास्तविक्ता को भूल रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा हम पाठ्यक्रम में अपने हिसाब से 30 प्रतिशत तक बदलेंगे। अकबर ने अच्छे काम किए होंगे तो वो इतिहास के पन्नों में रहेंगे। इतिहासकार यह तय करेंगे कि अकबर को कहां जगह मिलेगी।

बहादुरशाह जफर के कसीदे पढ़ते हुए दिनेश शर्मा ने कहा, वह अच्छे मुगल शासक थे। यही वजह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी म्यांमार में उनकी मजार पर गए थे। डिप्टी सीएम के मुताबिक, जिस संस्कृति में गद्दी के लिए पुत्र अपने पिता की हत्या तक कर देता हो, ताजमहल बनाने वालों के हाथ काट दिए जाएं, वह हमारी संस्कृति नहीं हो सकती।

स्कूल में छोटे बच्चों की सुरक्षा के सवाल पर उन्होंने कहा, अधिकारियों के साथ बैठक कर पूरा खाका तैयार कर लिया गया है। जल्द ही इससे संबंधित आदेश सभी स्कूल कालेजों को जारी कर दिए जाएंगे।

राजस्थान से शुरू हुआ है इतिहास बदलने का काम- 

आपको बता दें मुगलों के इतिहास बदले का काम राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार शुरु किया था। राजस्थान में एक सवाल के जवाब में कहा गया कि अकबर क्यों महान था क्या राणा प्रताप महान नहीं थे। हल्दीघाटी युद्ध को दोबारा लिखा गया है जिसमें राणा प्रताप को जीता हुआ बताया गया है।

जबकि हकीकत यह है कि राणाप्रताप कभी अकबर से नहीं जीते। हां यह बात जरूर है कि उन्होंने अकबर की कभी स्वाधीनता स्वीकार नहीं की और जिंदगी भर जंगलों में रहकर जीवन गुजार दिया।

लखनऊ से दिल्ली तक पहुंचा शिक्षा मित्रों का गुस्सा, बोले न्याय लिए बिना यहां से हिलेंगे नहीं

धार्मिक CM का जंगलराज: कानपुर देहात से गायब हुई बच्चियों का आंख निकला शव इटावा में मिला

JNU के बाद नौजवानों ने दिल्ली विश्वविद्यालय में भी भगवा सोच को नकारा, अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पर NSUI का कब्जा

सुबह छेड़छाड़ केस में BJP अध्यक्ष के बेटे की जमानत खारिज हुई, शाम को पीड़िता के IAS पिता का तबादला हो गया

सावधान ! आपके महापुरुष चुराकर, आपको छला जा रहा है, संगठित रहिए …

Related posts

Share
Share