You are here

मुस्लिम ने बीफ खाया तो पीट-पीटकर हत्या, ब्राह्मण ने गौवध किया तो सिर्फ गंगा नहाकर पाप मुक्ति?

नई दिल्ली। नेशनमल  जनमत ब्यूरो 

सिर्फ बीफ खाने, रखने या ले जाने के आरोपों पर ही दलितों और अल्पसंख्यकों की पीट-पीटकर हत्या कर देने वाले जातिवादी गिरोह देश में कानून नहीं मनुस्मृति का राज चलाना चाहते हैं । शायद यही वजह है कि मध्यप्रदेश में एक गाय की धारदार हथियार से हत्या करने के बाद ब्राह्मणों की पंचायत ने तिवारी जी को कहा गंगा नहा लो, भोज करा दो पाप धुल जाएंगे।

इसे भी पढ़े-पैर से लेकर गले तक टंगे ‘काले धागे’ के पीछे एक कट्टर ब्राह्मणवादी सोच है, दीपाली तायडे का नजरिया

मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ का मामला-

खबर के मुताबिक मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में पड़ने वाले टीकमगढ़ जिले के दुम्बर गांव में मोहन तिवारी नाम के शख्स ने दलित जाति शंकर अहिरवार की गाय को मार डाला। वो भी सिर्फ इसलिए मार दिया क्योंकि वह उसके खेत में जाकर फसल खराब कर रही थी। तिवारी ने गाय पर किसी धारदार हथियार से हमला किया था।

ब्राह्मण समाज का फैसला- 

घटना की जानकारी मिलने पर गांव के ब्राह्मण समाज ने पंचायत बुलाई गाय की हत्या करने पर मोहन तिवारी को गंगा नहाने, भोज खिलाने की सजा सुनकार अपनी नौटंकी समाप्त कर दी। में पंचायत ने गाय मारने के आरोपी को गंगा नहाकर पाप धोने और गांव के लोगों के लिए भोज आयोजित कराने की सजा सुनाई है।

इसे भी पढ़ें-पेरियार की धरती पर ब्राह्मणवाद के ‘जनेऊ NEXUS’ के खिलाफ 7 अगस्त को सुअर का ‘जनेऊ संस्कार’

पुलिस में जाने की हिम्मत भी नहीं जुटा पा रहा था शंकर- 

इंस्पेक्टर कैलाश बाबू आर्य ने बताया कि शंकर अहीरवार ने इस मामले की शिकायत पुलिस दवाब डालने के बाद दर्ज कराई। रिपोर्ट्स के मुताबिक फैसला हो जाने के बाद शंकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। आर्य ने आगे बताया कि गाय का पोस्टमॉर्टम कराने के बाद यह पता चला कि उसकी मौत घायल होने से हुई थी। इसके बाद ही तिवारी के खिलाफ मध्य प्रदेश गौ-वध प्रतिबंध कानून के तहत मामला दर्ज किया गया।

 

Related posts

Share
Share