You are here

मुस्लिमों पर हमलों के विरोध में अमेरिका में सिखों का प्रदर्शन, बोले ‘ अपराधी मोदी को गिरफ्तार करो’

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

मोदी सरकार के सत्तासीन होने के बाद अल्पसंख्यकों पर लगातार हो रहे हमलों का अब खुलकर विरोध होना शुरू हो गया है। ख़ास बात यह है कि मुसलमानों के साथ आए दिन यानि भीड़ द्वारा मारपाीट या पीट-पीटकर मार देने की घटना के विरोध में अब दूसरे मज़हब के लोग भी आवाज़ उठाने लगे हैं।

विरोध सिर्फ हिन्दुस्तान तक ही नहीं बल्कि देश के बाहर भी इस भीडतंत्र को रोकने में नाकामयाब मोदी सरकार की आलोचना हो रही है।
इसी सिलसिले में खबर है कि दो दिवसीय अमेरिकी दौरे पर गए पीएम मोदी को वहां भी विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ा। रिट्ज कार्लटन के बाहर सैंकड़ों सिखों ने देश भर में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमलों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया।

इसे भी पढ़ें- अमेरिका में लगे मोदी गो बैक के नारे, लोगों ने कहा भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं मोदी

अपराधी मोदी को गिरफ्तार करो- 

इस दौरान सिख समुदाय के लोग “Don’t Invest in India” के बैनर के साथ अपना विरोध जता रहे थे। रैली में मोदी प्रशासन के अत्याचारों पर ध्यान केंद्रित किया गया, जिसके चलते भारत में रहने वाले सिख, मुस्लिम, ईसाई और अन्य अल्पसंख्यकों को मारा जा रहा है। इस दौरान सिख समुदाय के हाथों में तख्तियां थीं उनमें संदेश साफ था कि अपराधी मोदी को गिरफ्तार करो. ( ARREST CONVICT MODI)

एसएफजे के कानूनी सलाहकार, अटर्नी गुरुपतवंत सिंह पन्नुन ने कहा, “चूंकि धार्मिक स्वतंत्रता कार्य अमेरिकी मूल्यों के केंद्र में हैं, इसलिए हमने कांग्रेस के सदस्यों को मोदी शासन के तहत सिखों के उत्पीड़न के खिलाफ खड़े होने के लिए कहा है।”
उन्होंने कहा, “भारत में सिखों को अपनी अलग धार्मिक पहचान और स्वनिर्धारित करने के उनके अतुलनीय अधिकारों को पुनर्स्थापित करने के लिए अभियान चलाया जाता है।

इसे भी पढ़ें- केन्द्र की शिक्षा नीति से बेरोजगार हुए पीएचडी धारकों का अभियान मोदी हटाओ पीएचडी बचाओ

अमेरिकी नागरिकों ने भी किया प्रदर्शन-  

सिर्फ सिखों ने ही नहीं बल्कि अमेरिकी नागरिकों ने भी पीएम मोदी के खिलाफ प्रदर्शन किया. इससे पहले पीएम मोदी को गुजरात नरसंहार के कारण, कई मानवाधिकार संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के दबाव मे अमरीका ने अपने यहां आने पर पाबंदी लगा दी थी. पर जैसे ही मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने अमरीका ने ये पाबंदी हटा ली. इस मामले में एक औऱ बात जानने लायक है कि गुजरात नरसंहार के विरोध में समय-समय पर पीएम मोदी के खिलाफ अमरीका में प्रदर्शन होते रहते हैं. इस बार भी पीएम मोदी जब अमरीका पहुंचे तो उनके खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने हाथों में तख्तियां लेकर और ‘ मोदी गो बैक ‘ के नारे लगाकर प्रदर्शन किया.

इसे भी पढ़ें…स्वंयभू राष्ट्रवादी zee news मालिक सुभाष चंद्रा के बेटे ने देश को लगा दिया 11 हजार करोड़ रूपए का चूना

मोदी भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं- 

एक प्रदर्शनकारी हाथ में तख्ती लिए था जिसमें लिखा था मोदी भारतीय आतंकवाद का चेहरा हैं. बाती प्रदर्शनकारियों की मांग थी मोदी भारत में हत्याएं रोको.  प्रदर्शनकारी भारत में गाय के नाम पर हो रही मुस्लिम समुदाय के खिलाफ हिंसा रोकने में नाकामी के चलते भी मोदी सरकार से खफा थे. इसके अलावा मोदी सरकार के राज में दलितों की प्रति बढ़ती हिंसा, रोहित वेमुला की संस्थानिक हत्या, ऊना आंदोलन, औऱ सहारनपुर जातीय हिंसा के विरोध में भी पीएम मोदी के खिलाफ नारेबादी की गई .

Related posts

Share
Share