You are here

दलबदलू नरेश अग्रवाल सपा छोड़कर BJP में शामिल, लोग बोले साइकिल वाले अग्रवाल जी राष्ट्रवादी हो गए

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

डूबते सूरज को अलविदा कहना और उगते सूरज को सलाम करना ही उनकी सियासत का फलसफा है। जो पार्टी मजबूत दिखती है सारे गिले-शिकवे भुला कर उसी में चले जाते है। बार-बार दल-बदल के सवालों पर खुद को मौसम विज्ञानी भी बता चुके हैं। शायद यह उनका मौसम विज्ञान ही है, जिसकी बदौलत वे हवा का रुख भांपने में देरी नहीं करते।

और फिर बीजेपी ठहरी दाग धुलने की मशीन उसमें शामिल होते ही नेता पवित्र हो जाता है। नरेश की चार दशक की सियासत इस बात की गवाह है कि कभी उन्होंने डूबती नाव की सवारी नही की। कांग्रेस डूबने लगी तो सपा में चले गए, सपा की सरकार जाती दिखी तो बसपा में चले गए।

बीजेपी में आने के बाद अब नरेश अग्रवाल उन बिरले नेताओं में शुमार हो गए हैं, जिन्होंने घाट-घाट का पानी पीया है। देश की कोई बड़ी पार्टी नहीं छूटी, जिसकी नाव में नरेश नहीं सवार हुए। जब भी जो भी नाव डूबती दिखाई दी तो उसे छोड़कर दूसरी नाव की सवारी में देर नहीं की। बदले में हर बार नरेश अग्रवाल की झोली में सांसदी और विधायकी का टिकट गिरता रहा।

कुमार विश्वास ने पीएम मोदी पर कसा तंज- 

AAP नेता कुमार विश्वास ने नरेश अग्रवाल की बीजेपी में एंट्री पर चुटकी ली इसके साथ ही मोदी और केजरीवाल को भी लपेटा। कुमार विश्वास ने ट्वीट किया, ‘आम दरबार हो या खास दरबार, बेशर्म राजनीति के ‘अजगर-नरेशों’ का 2G नेटवर्क हर जगह कामयाब है!’

कुमार विश्वास के ट्वीट पर लोगों ने तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दीं। योगेश कुमार ने लिखा, ‘दो मिनट का मौन उन बीजेपी प्रवक्ताओं के लिए, जिनको तमाम चैनलों पर जाकर आज नरेश अग्रवाल को डिफेंड करना है।’ रामअवतार मीणा ने लिखा, ‘भैया इनके लिए सत्ता महत्वपूर्ण है। चाहे पैसे से खरीदें या ताकत से।

दिक्कत ये है कि इन हरकतों को वो कार्यकर्ता कैसे सहन कर लेते हैं जो अपना सबकुछ छोड़ कर सड़कों पर देशभक्ति के नारे लगाते फिरते हैं? क्या राजनीतिक दल इनके लिए देश से बड़े हैं?’

शाहरुख सिद्दिकी ने ट्वीट किया, ‘साइकिल वाले अग्रवाल जी आज वैसे ही राष्ट्रवादी हो गए हैं, जैसे कुछ दिन पहले अजगर वाले गुप्ता जी ईमानदार हो गए थे।’

जानिए कौन हैं नरेश अग्रवाल- 

इनके पिता श्रीश अग्रवाल हरदोई के जिला पंचायत अध्यक्ष और विधायक रहे। अपने जमाने में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार थे। लखनऊ विश्वविद्यालय से एलएलबी करने के बाद पहली बार नरेश 1980 में कांग्रेस के टिकट पर विधायक बने। फिर 89 से 91, 91-92 और 93-95 के बीच विधायक रहे। 1996 में कांग्रेस के टिकट पर छठीं बार विधायक बने।

जब बसपा ने समर्थन वापस ले लिया था और कल्याण सिंह की भाजपा सरकार पर संकट मंडरा रहा था, तब फिर सियासी हवा भांपने का मौसम विज्ञान काम आया। नरेश अग्रवाल डेढ़ दर्जन विधायकों के साथ कांग्रेस पार्टी तोड़ दिए और लोकतांत्रिक कांग्रेस पार्टी का गठन किया। बदले में उन्हें कल्याण सरकार में ऊर्जा मंत्री का पद मिला।

राजनाथ ने निकाला तो सपा बनी सहाराः

1997 से 2001 के बीच कल्याण सिंह, रामप्रकाश गुप्ता और राजनाथ सिंह की बीजेपी सरकार में नरेश अग्रवाल को मंत्री बनने का मौका मिला। मगर, कई बार नरेश अग्रवाल दबाव की राजनीति करने की कोशिश करते रहे। तंग आकर राजनाथ सिंह ने कैबिनेट से चलता कर दिया। इसके बाद फिर नरेश अग्रवाल को समाजवादी पार्टी में दम नजर आया और मुलायम सिंह के साथ हो लिए। 2003 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनी तो मुलायम सिंह यादव ने उन्हें पर्यटन मंत्री बनाया।

साइकिल पंचर देख, हाथी संग हो लिएः

समाजवादी पार्टी में पांच साल की राजनीति करते नरेश अग्रवाल को लगा कि अब बसपा के दिन आने वाले है। बस फिर क्या था कि 2008 में बेटे नितिन के साथ नरेश बसपा मुखिया मायावती के साथ हो लिए। 2008 में उन्होंने विधानसभा सीट से इस्तीफा देकर तब 27 साल के बेटे को बसपा के टिकट पर राजनीति में पदार्पण कराने में सफल रहे। इस बीच 2010 में बसपा ने उन्हें राज्यसभा भेज दिया।

हाथी को डूबता देख, फिर साइकिल की सवारीः

नरेश अग्रवाल को लगा कि 2007-12 के बाद अब मायावती की सरकार दोबारा नहीं आने वाली है। उन्होंने 2012 में विधानसभा चुनाव होने के साल भर पहले ही समाजवादी पार्टी से रिश्ता साध लिया।

सपा की सरकार बनने वाली है यह बात उन्होंने अपने ‘सियासी मौसम विज्ञान’ की जानकारी का इस्तेमाल कर पता कर लिया। बेटे नितिन के साथ झट से समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर लिए।

एक तो बेटे को विधायकी के बाद राज्यमंत्री का पद मिला, दूसरे खुद को सपा के टिकट पर राज्यसभा जाने का मौका। अब सबसे ताकतवर पार्टी के पाले मेंः समाजवादी पार्टी से यूपी के रास्ते राज्यसभा जाने की गुंजाइश नहीं बची तो फिर नरेश अग्रवाल ने दांव खेल दिया।

अब देश की सबसे मजबूत पार्टी में एंट्री करने में सफल रहे। माना जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में नरेश अग्रवाल बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं।

Related posts

Share
Share