You are here

आग से फसल जली, 6 बार रिश्वत भी दी लेकिन नहीं मिला मुआवजा, किसान ने दे दी जान

नई दिल्ली/भोपाल। नेशनल जनमत ब्यूरो

शिवराज सरकार का हाल देखिए. तीन महीने पहले आग में जली 3 एकड़ की गेहूं की फसल के मुआवजे के लिए किसान ने तहसील के चक्कर काटे। छह बार बाबुओं को 500-500 की रिश्वत भी दी, लेकिन मुआवजा नहीं मिला।

20 हजार रुपए बिजली के बिल भरने के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए कनेक्शन कटने से सूख रही मूंग की फसल से चिंतित नरसिंहपुर के धमना गांव के किसान लक्ष्मी प्रसाद (65) ने मंगलवार को सल्फास खाकर घर में आत्महत्या कर ली।

इसे भी पढ़ें- सीएम योगी के खिलाफ महिला ने दर्ज कराया केस, महिला की न्यूड तस्वीर वायरल करने का आरोप

मरने के बाद अकाउंट में आया पैसा- 

किसान पर यूको बैंक से चार लाख रुपए का कर्ज था। मृतक किसान के भतीजे भगवान सिंह ने बताया कि उसके फूफा लक्ष्मी प्रसाद की आत्महत्या के कुछ देर बाद ही उनके खाते में 12900 रुपए की राशि प्रशासन ने डाल दी। आनन-फानन में पटवारी मुरारीलाल श्रीवास्तव को निलंबित कर दिया।

सात एकड़ की जमीन, मूंग फसल भी सूख गई- 

बेटे चैनसिंह और टावल सिंह ने बताया कि परिवार के पास 7 एकड़ की जमीन है। एक हिस्से पर मूंग की फसल बोई गई है। पैसे न होने के कारण 20 हजार बिजली का बिल नहीं भरा गया। इसलिए खेत पर लगे ट्यूबवेल की बिजली कंपनी ने काट दी। इसकी वजह से फसल सूख गई। इस फसल को बेचकर हम बैंक का 4 लाख का कर्ज चुकाने वाले थे। अगर समय रहते मुआवजा मिल जाता तो वे बिल चुकाते और फसल भी तैयार हो जाती।

इसे भी पढ़ें- जस्टिस कर्णन की गिरफ्तारी के बाद छिड़ी बहस, देश क्या आज भी मनु की मनुस्मृति के चल रहा है

परिजन अंतिम संस्कार से इनकार किया, कलेक्टर को बुलाकर माने- 

घटना की सूचना मिलते ही जिला अस्पताल में किसानों की भारी भीड़ जुट गई। कांग्रेस-भाजपा नेताओं का जमावड़ा लग गया। एडीएम, एसडीओपी भी मौके पर पहुंचे, लेकिन मृतक के परिजनों ने कहा कि जब तक कलेक्टर नहीं आएंगे तो वह शव नहीं ले जाएंगे।
इसके बाद कलेक्टर डॉ. आरआर भोंसले पहुंचे और उन्होंने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि मामले में दोषियों पर कार्रवाई करते हुए शासन से मदद भी दिलाई जाएगी। आश्वासन के बाद मृतक के परिजन शव लेकर धमना पहुंचे, जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया।

इसे भी पढ़ें- मोदीजी के स्वच्छ भारत अभियान को खुली चुनौती, ठाकुर लेते बैं दलितों से खेत में शौच करने का टैक्स

पटवारी पर फोड़ा ठीकरा-

पटवारी ने फसल क्षति का प्रतिवेदन देर से दिया। इस वजह से किसान को समय पर राहत नहीं मिल पाई। 19 जून को भी किसान लक्ष्मी प्रसाद तहसील आए थे, तब ही मामले की फाइल निकलवाई गई थी। उसके बाद मंडी में व्यस्त हो गए। वैसे किसान के खाते में 12 हजार 900 रुपए की राशि जमा हो गई है। मामले में गलतियां तो हुई हैं, जो भी दोषी है, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Related posts

Share
Share