You are here

BJP समर्थक उद्योगपति के हाथों बिकने की खबर से NDTV का इनकार, शेयर धारक असमंजस में

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो।

इंडियन एक्सप्रेस जैसे प्रतिष्ठित अंग्रेजी समाचार पत्र ने एनडीटीवी इंडिया के बिकने की खबर क्या छापी देश की मीडिया इंडस्ट्री में भूचाल आ गया। इनडीटीवी के शेयर धारको में भी हड़कंप मच गया। लेकिन शाम होते-होते एनडीटीवी ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को अपना स्पष्टीकरण भेजते हुए इस तरह की खबर से इंकार कर दिया।

सुबह-सुबह खबर आई कि एनडीटीवी चैनल को स्पाइसजेट के चैयरमैन अजय सिंह 600 करोड़ रुपये में खरीदने वाले हैं। एनडीटीवी ने खबर का खंडन करते हुए खबर को पूरी तरह बेबुनियाद बताया है।

इंडियन एक्सप्रेस को एनडीटीवी के करीबी सूत्रों ने बताया था कि “सौदा पक्का हो चुका है।” इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सौदे के बाद एनडीटीवी के सह-संस्थापक प्रणय रॉय और राधिका रॉय की हिस्सेदारी करीब 20 प्रतिशत रह जाएगी और अजय सिंह के पास करीब 40 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी।

एनडीटीवी की 1988 में स्थापना हुई थी। इस साल जून में सीबीआई ने प्रणय रॉय और राधिका रॉय के दफ्तर और घर पर छापा मारा था। एनडीटीवी पर बैंक का लोन न चुकाने और वित्तीय हेराफेरी का आरोप है। हालांकि एनडीटीवी ने बयान जारी करके इन सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया था।

शेयर धारकों में असमंजस- 

एनडीटीवी के बिकने की खबर आने के बाद शुक्रवार शेयर बाजार में कंपनी के शेयरों की कीमत में करीब पांच प्रतिशत का उछाल आया। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के जून 2017 तक के आंकड़ों के अनुसार एनडीटीवी के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और प्रमोटर संस्था आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के पास कंपनी की 61.45 प्रतिशत हिस्सेदारी है। वहीं 38.55 प्रतिशत हिस्सेदारी सार्वजनिक शेयरधारकों के पास है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने कंपनी के बिकने की खबर पर एनडीटीवी को जवाब तलब किया था। बीएसई की वेबसाइट पर उपलब्ध एनडीटीवी के जवाब में भी इस खबर को पूरी तरह गलत बताया गया है।

किसके खरीदने की थी खबर- 

अजय सिंह भारतीय जनता पार्टी के करीबी हैं। साल 2014 के लोक सभा चुनाव से पहले बीजेपी की प्रचार कमान संभालने वाली कोर टीम में अजय सिंह शामिल थे। बीजेपी के करीबी कारोबारी द्वारा एनडीटीवी को खरीदने की खबर आते ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी।

एनडीटीवी लगातार नरेद्र मोदी सरकार की आलोचना वाली खबरों को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चित रहने वाली चैनल हैं और रवीश कुमार चर्चित पत्रकार।

BJP शासित छत्तीसगढ़ में किसानों का उत्पीड़न, फसल का उचित मूल्य मांग रहे सैकड़ों किसान गिरफ्तार

उपराष्ट्रपति बनकर भी दिल से नहीं गया BJP प्रेम, बोले दुर्गा रक्षा और लक्ष्मी वित्त मंत्री थीं

विकास-विकास चिल्लाने वाली BJP के मुंह पर जोरदार तमाचा है, सांसद दिवाकर रेड्डी का इस्तीफा

क्या RSS के बाद PM मोदी- अमित शाह ने भी भांप लिया जनाक्रोश, 2019 से पहले करा सकते हैं आम चुनाव

PM के पहुंचने से पहले, छेड़खानी के विरोध में छात्राओं ने BHU गेट किया बंद, छात्रा ने मुंडवाया सिर

आखिर 600 करोड़ में बिक गया रवीश वाला NDTV, BJP चुनाव प्रचार की कोर टीम में रहे अजय सिंह होंगे नये मालिक !

सुप्रीम कोर्ट सख्त : गाय के नाम पर हिंसा करने वालों पर करें सख्त कार्रवाई, पीड़ितों को दें मुआवजा

Related posts

Share
Share