You are here

आखिर 600 करोड़ में बिक गया रवीश वाला NDTV, BJP चुनाव प्रचार की कोर टीम में रहे अजय सिंह होंगे नये मालिक !

नई दिल्ली, नेशनल जनमत ब्यूरो।

देश में प्रचलित तमाम खबरिया चैनलों में एनडीटीवी ही एकमात्र ऐसा चैनल था जो बीजेपी की साम्प्रदायिकता और जुमलेबाजी के खिलाफ मुखर होकर बोलता था। लेकिन अब बड़ी खबर ये है कि पत्रकार रवीश कुमार के मोदी भक्त विरोधी चेहरे के रूप में पहचान बना चुके चैनल ‘एनडीटीवी इंडिया’ की कमान भी बीजेपी समर्थित एक व्यक्ति के हाथों में पहुंच गई है।

टीवी चैनल एनडीटीवी को जल्दी ही नया मालिक मिलने वाला है। एनडीटीवी के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और प्रमोटर संसथा आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड की सीबीआई वित्तीय लेन-देन के एक मामले में जांच कर रही है।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक बताया कि स्पाइसजेट के सह-संस्थापक और मालिक अजय सिंह एनडीटीवी के सबसे बड़े शेयर धारक बनने जा रहे हैं। अजय सिंह भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साल 2014 के चुनाव प्रचार की कोर टीम में शामिल थे।

इंडियन एक्सप्रेस ने जब एनडीटीवी के सूत्र से पूछा कि क्या चैनल स्पाइसजेट के अजय सिंह को बेचा जा चुका है? तो जवाब मिला, “हाँ, सौदा पक्का हो चुका है और संपादकीय अधिकार के साथ चैनल का नियंत्रण अजय सिंह के हाथ में होगा।” इसी साल पांच जून को सीबीआई ने रॉय दंपति के निवास और दफ्तर पर कथित तौर पर बैंक लोन न चुकाने से जुड़े मामले में छापा मारा था।

सूत्रों के अनुसार स्पाइसजेट के चेयरमैन और मैनेजिंग एडिटर अजय सिंह के पास एनडीटीवी के करीब 40 प्रतिशत शेयर होंगे। प्रणय रॉय और राधिका रॉय के पास करीब 20 प्रतिशत शेयर होंगे। बॉम्ब स्टॉक एक्सचेंज के जून 2017 तक के आंकड़ों के अनुसार एनडीटीवी में प्रमोटरों के पास 61.45 प्रतिशत हिस्सेदारी है। वहीं 38.55 प्रतिशत हिस्सेदारी सार्वजनिक शेयरधारकों के पास है।

सूत्रों के अनुसार अजय सिंह एनडीटीवी का 400 करोड़ रुपये का कर्ज भी वहन करेंगे। कुल सौदा करीब 600 करोड़ रुपये में हुआ बताया जा रहा है। सौदे में करीब 100 करोड़ तक नकद रॉय दंपति को मिल सकता है।

जब स्पाइसजेट से एनडीटीवी से हुए सौदे के बारे में पूछा गया तो उसके अधिकारियों ने इसे “पूरी तरह बेबुनियाद और गलत” बताया। एनडीटीवी को भेजे गये ईमेल और मोबाइल मैसेज का कोई जवाब नहीं आया।

अजय सिंह ने जनवरी 2015 में स्पाइसजेट की कमान संभाली थी और उसे सफल बनाया था। नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार के दौरान “अबकी बार मोदी सरकार” जुमले का श्रेय अजय सिंह को दिया जाता है। वो अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान प्रमोद महाजन के ओएसडी रह चुके हैं। उस दौरान उन्होंने डीडी स्पोर्ट्स और डीडी न्यूज को लॉन्च करने में प्रमुख भूमिका निभायी थी।

अजय सिंह साल 1996 में दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) के बोर्ड में रहे थे। उन्होंने डीटीसी के कायाकल्प की योजना बनायी थी। उनके कार्यकाल में डीटीसी बसों की संख्या 300 से 6000 हो गई थी। दिल्ली के सेंट कोलंबा से पढ़े अजय सिंह आईआईटी दिल्ली से बीटेक हैं। उन्होंने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से एमबीए किया है और दिल्ली विश्वविद्यालय से कानून की भी पढ़ाई की है।

PM के पहुंचने से पहले, छेड़खानी के विरोध में छात्राओं ने BHU गेट किया बंद, छात्रा ने मुंडवाया सिर

अपनों ने भी छोड़ा PM मोदी का साथ, हिंदू महासभा की धमकी, हम सरकार बनवा सकते हैं, तो गिरा भी सकते हैं

गोरखपुर: अपमानजनक सजा से आहत 5वीं के बच्चे ने सुसाइड नोट लिखकर आत्महत्या की

बाबा रे बाबा ! अब फलाहारी बाबा पर लॉ स्टूडेंट को जज बनवाने का झांसा देकर बलात्कार करने का आरोप

रेपिस्ट राम रहीम के समर्थक BJP सांसद का भगवा ज्ञान, प्रेमी जोड़ों को जेल में डाल दो, रुक जाएंगे रेप

न्यूयार्क के टाइम्स स्क्वायर पर राहुल का PM पर वार, असहिष्णुता से बिगड़ी विश्व में भारत की छवि

 

Related posts

Share
Share