You are here

पैसे की कमी से जूझती अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी निधि पटेल को SOUTH AFRICA कॉमनवेल्थ में दिखाना है दम-खम

नई दिल्ली। नीरज भाई पटेल (नेशनल जनमत ब्यूरो)

लगातार पैसे की कमी से जूझती अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी निधि सिंह पटेल का चयन  सितंबर में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित कामनवेल्थ पावर लिफ्टिंग एवं बेंचप्रेस प्रतियोगिता के लिए हुआ है। अभी तक विदेशों में नौ बार देश का प्रतिनिधित्व कर चुकीं निधि सिंह पटेल को शासन-प्रशासन से कभी कोई मदद नहीं मिली।

हर बार चंदा जुटाकर देश का नाम रोशन करने वाली निधि सिंह पटेल दक्षिण अफ्रीका के लिए सिलेक्शन से खुश तो हैं लेकिन उन्हें डर भी सता रहा है कि 1 लाख 80 हजार रुपये पावर लिफ्टिंग फेडरेशन को जमा कराना है। पता नहीं इतना सहयोग  मिल भी पाएगा या नहीं।

यूपी के मिर्जापुर की हैं निधि सिंह पटेल- 

उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के चुनार तहसील के छोटे से गांव पचेवरा से निकल कर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल की दुनिया में अपनी पहचान बनाने वाली व गोल्डेन गर्ल के नाम से प्रसिद्ध खिलाड़ी निधि सिंह पटेल फिर से विदेशी धरती पर दम खम आजमाने जा रही हैं। सितंबर में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित कामनवेल्थ पावर लिफ्टिंग एवं बेंच प्रेस प्रतियोगिता के लिए उनका चयन किया गया है।

फोटो- निधि सिंह पटेल और कोच कमलापति

10 से 17 सितम्बर तक होने वाली प्रतियोगिता के लिए इंडियन पावर लिफ्टिंग फेडरेशन का आमंत्रण पत्र भी निधि सिंह को मिल चुका है। अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कड़ी स्पर्धा के बावजूद नौ बार विदेशों से देश से की झोली में मेडल डाल चुकीं निधि सिंह पटेल को दसवीं बार विदेश जाने का मौका मिल रहा है। इससे वे और उनके कोच कमलापति त्रिपाठी बेहद खुश हैं।

अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता के मानक के अनुसार प्रतियोगिता में भाग लेने से पहले डोप टेस्ट किया जाएगा। डोप टेस्ट के लिए 16 जुलाई को निधि दिल्ली के लिए रवाना होंगी। जहां नमूना लेकर जांच किया जाएगा।

हर बार चंदा मांगकर ही जाना पड़ता है विदेश- 

इन सब के बावजूद निधि चिंतित इस बात को लेकर हैं कि प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने के लिए एक लाख 80 हजार रुपये अभ्यास शिविर से पहले जमा करना होगा। पैसे का इंतजाम करने के लिए उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। छह स्वर्ण, दो सिल्वर और एक ब्रांज मेडल जीतने वाली निधि की तंगी ने आज तक पीछा नहीं छोड़ा है।

हर प्रतियोगिता के पहले निधि पटेल के सामने आर्थिक तंगी मुंह बाए खड़ी हो जाती है। कभी समाज के अधिकारी तो कभी व्यापारी वर्ग तो कभी आपस में चंदा जुटाकर ही निधि को विदेश भेजा जाता है। कई बार गुहार लगाने और आश्वासन मिलने के बाद भी प्रदेश सरकार से निधि सिंह पटेल को कोई सहयोग नहीं मिला।

फोटो-  दैनिक जागण नई दिल्ली में प्रकाशित खबर

निधि सिंह पटेल ने डीएम विमल कुमार दुबे से आर्थिक सहयोग प्रदान करने की अपील की है। यही नहीं इसके लिए वे जिले के विधायकों से भी आर्थिक सहयोग प्रदान करने की गुजारिश की हैं। ताकि वह देश के लिए दक्षिण अफ्रीका में खेल कर मेडल ला सकें। हालांकि निधि सिंह पटेल के जिले से केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल भी सांसद हैं लेकिन सहयोग के नाम पर निधि को किसी भी जनप्रतिनिधि से बहुत कुछ हासिल नहीं हुआ है।

अखिलेश यादव ने कोई सहयोग नहीं दिया- 

निधि पटेल ने बताया कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुखिया अखिलेश यादव के समय में कई बार मेडल जीतनेके बाद भी निधि सिंह पटेल को ना कभी सम्मानित किया ना ही कोई सहयोग दिया। जबकि अन्य प्रदेशों में खिलाडि़यों को सम्मान भी मिलता है और पैसा भी।

निधि कहती हैं कि गरीबी के कारण मुझे यश भारती पुरस्कार से वंचित होना पड़ा। मेरे पिता शंकर सिंह पटेल प्राइमरी स्कूल में चतुर्थ श्रेणी पर कार्यरत है। इसलिए पैसे के अभाव में पत्थर का वजन बनाकर मैंने प्रेक्टिस करनी शुरू की थी। लेकिन जहां कहीं भी मुझे भाग लेने का मौका मिला मैंने देश के लिए कोई न कोई पदक जरूर हासिल किया।

कच्चे मकान में रखे हैं दो दर्जन से अधिक पदक- 

 

दो दर्जन से अधिक पदक और प्रशस्ति पत्र तथा गोल्ड व रजत मेडल उसके कच्चे मकान में रखे हैं।

1. 2010- मनीला. एशिया बेंच प्रेस पावारलिफ्टिंग प्रतियोगिता में 52 केजी वर्ग में रजत पदक।

2. 2011- ताइवान- 57 केजी भर वर्ग में कांस्य पदक।

3.2011-लंदन-कामनवेल्थ में 57 केजी में स्वर्ण पदक।

4. 2015 हांगकांग. एशिया सीनियर महिला 57 केजी पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप प्रतियोगिता में कांस्य पदक।

5.2015– ओमान- 57 केजी एशिया बेंच प्रेस पावरलिफ्टिंग चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक, साथ ही एशिया की सबसे शक्तिशाली महिला की उपाधि भी प्राप्त।

6.2016 उज्बेकिस्तान- एशियन बेंच प्रेस में रजत पदक।

7.2017 जमशेदपुर-एशिया पावर लिफ्टिंग में तीन स्वर्ण,तीनों में स्ट्रांग वुमेन का खिताब।

इसके अलावा देश में दर्जनों पदक हासिल किए हैं।

इसे भी पढ़ें-

MP,MLA बहुत बना लिए अब पटेल के वंशजों को CM बनाने के लिए संघर्ष करना होगा- मंत्री जय कुमार ‘जैकी’

 नगर विकास मंत्री के जिले में EO अनिरुद्ध पटेल को पीटने वाले BJP नेता मनोज तिवारी की गिरफ्तारी नहीं

चल रहा मौतों का खेल, मारे जा रहे बेगुनाह पटेल….शायर मुज़म्मिल अय्यूब की झकझोर देने वाली नज़्म

गर्व है: किसान की बेटी BHU छात्रा काजल पटेल ने 18 हजार फीट ऊंची लद्दाख की चोटी पर लहरा दिया तिरंगा

Related posts

Share
Share