You are here

पेरियार की धरती से नीतीश का ऐलान देश पर बीजेपी को अपना एजेंडा नहीं थोपने देंगे

नई दिल्ली। नेशनल जनमत ब्यूरो

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में चेन्नई में एकजुट हुए विपक्ष ने शनिवार शाम मंच से एकजुट होकर ऐलान किया कि बीजेपी अपना सांस्कृतिक एजेंडा लोगों पर थोपना चाहती है. लेकिन ऐसा किसी कीमत पर नहीं होने दिया जाएगा.

समारोह में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, भाकपा महासचिव एस. सुधाकर रेड्डी, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, तृणमूल कांग्रेस के डेरिक ओब्राइन, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री नारायण स्वामी सहित अनेक नेता मौजूद थे.

नीतीश कुमार डीएमके अध्यक्ष एम. करुणानिधि के 94वें जन्मदिवस पर चेन्नई के वाइएमसीए ग्राउंड में आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे. समारोह में गैरभाजपा दलों के बड़े नेताओं का जुटान दिखा.

नीतीश कुमार ने कहा कि शराबबंदी के बिहार में बहुत अच्छे नतीजे सामने आए हैं। अपराध का ग्राफ काफी गिरा है। घरेलू हिंसा में भी कमी आई है। उन्होंने कहा कि मुझे साफ नजर आ रहा है कि तमिलनाडु में अगली सरकार एमके स्टालिन के नेतृत्व में बनेगी। मैं उनसे अनुरोध करूंगा कि वे उस समय अपने पिता करुणानिधि के शराबबंदी संबंधी वादे को अवश्य याद रखें.

वह 2016 के तमिलनाडु के विधानसभा चुनाव में डीएमके अध्यक्ष करुणानिधि द्वारा शराबबंदी के संबंध में की गई घोषणा के हवाले से बोल रहे थे.उन्होंने कहा कि मैंने मीडिया में करुणानिधि का एक साक्षात्कार भी देखा है जिसमें उन्होंने कहा है कि शराबबंदी जब बिहार में हो सकती है तो तमिलनाडु में क्यों नहीं.

शराबबंदी से सामाजिक न्याय की लड़ाई और मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि बिहार में जदयू, राजद और कांग्रेस की महागठबंधन सरकार ने जो शराबबंदी लागू की है, उससे अनेक फायदे हुए हैं। सड़क दुर्घटनाओं में कमी आई है।

Related posts

Share
Share